करनाल को नए साल पर मिलेगी कैनाल फ्रंट डव्लपमेंट पर मिलेगी सौगात, निर्मल कुटिया चौंक और बलडी बाईपास चौंक का भी होगा सौन्दर्यकरण

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर (ब्यूरो) करनाल 14 अक्तूबर,स्मार्ट सिटी करनाल के कई प्रोजेक्ट मुकम्मल होने की ओर अग्रसर हैं। चालू वर्ष में नवंबर-दिसम्बर तक सैक्टर-12 में नगर निगम के नए भवन में तैयार हो रहे आई.सी.सी.सी. की 80 प्रतिशत प्रोग्रेस को देखते नूतन वर्ष 2021 के आगमन पर इसके लाईव होने की प्रबल सम्भावना हो गई है। दूसरी ओर डब्ल्यू.जे.सी. पर कैनाल फ्रंट डव्लपमेंट प्रोजेक्ट की आर.एफ.पी. व डी.पी.आर. सब्मिट हो जाने से बहुत जल्द ही इसका टैण्डर लगाया जाएगा और कुछ दिनो के बाद वर्क अलॉट होने के बाद कैनाल फ्रंट को डव्लप करने का प्रोजेक्ट सबके सामने होगा। नए वर्ष में नागरिकों को स्मार्ट सिटी की यह सौगातें मिलेंगी।

उपायुक्त एवं करनाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ निशांत कुमार यादव ने बुधवार को डॉ. मंगलसेन ऑडिटोरियम में घण्टों भर की मीटिंग में उक्त प्रोजेक्ट की समीक्षा कर सम्बंधित एजेंसी से प्रोग्रेस की जानकारी ली। मीटिंग में बताया गया कि प्रदेश के पहले आई.सी.सी.सी. प्रोजेक्ट का सिविल वर्क लगभग पूरा हो गया है, जबकि कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में अगले सप्ताह से ही हार्डवेयर स्थापित करने का काम शुरू हो जाएगा, विडियो वाल भी आ गई है। सेंटर में एयर कंडीशन इत्यादि फिक्स किए जा रहे हैं। टाईल, फाल सिलिंग व फ्लोरिंग का काम खत्म होने को है। अप्रूव्ड डिजाईन के अनुसार फर्नीचर लगेगा और ग्लास यानि शीशे से पार्टिशन किया जाएगा।

 

सीईओ ने बताया कि इसी प्रोजेक्ट के दूसरे भाग सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाने का काम भी साथ-साथ शुरू हो रहा है। उन्होंने बताया कि शहर में चार लोकेशन पर वेरीएबल मैसेज साईनेज (परिवर्तनीय संकेत संदेश) की स्थापना की गई है। इन्ही में से एक नमस्ते चौक पर लगाए गए वी.एम.एस. जिसमें एन्वायंरमेंट सेंसर भी है, कुछ दिन पहले वहां आयोजित एक कार्यक्रम में प्रदेश के मुख्यमंत्री ने निरीक्षण किया था और इसकी ऊंचाई बढ़ाने के निर्देश दिए थे, ताकि फ्लाईओवर से गुजरते लोगों का यह नजर आ सके।

आज की मीटिंग में निर्णय लिया गया कि जल्द ही रिडिजाईन कर इसकी ऊंचाई बढ़ाने पर काम शुरू हो जाएगा, जो लगभग 50 फुट ऊंचा होगा। इसके लिए दो पोल लगाने होंगे। बता दें कि एंरवायरमेंट सेंसर, टैम्प्रेचर व हयूमिडिटी की जानकारी के लिए देते हैं, जबकि वी.एम.एस. पर शहर से जुड़ी कई तरह की जानकारी डिस्प्ले होती है। उन्होंने बताया कि शहर की 29 लोकेशन पर सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाने के लिए फाउंडेशन का काम पहले ही पूरा हो गया था, पोल लगाए जा रहे हैं, इन पर 250 से अधिक कैमरे लगेंगे।

समीक्षा मीटिंग में डब्ल्यू.जे.सी. पर कैनाल फ्रंट डव्लपमेंट व मेरठ रोड पर ताऊ देवी लाल चौक के साथ लगती जगह पर प्लाजा बनाए जाने के प्रोजेक्ट की भी समीक्षा की गई। पीएमसी की प्रेजेंटेशन के बाद उपायुक्त ने बताया कि डब्ल्यूजेसी प्रोजेक्ट का आर.एफ.पी. तैयार करके सब्मिट कर दिया है, इसमें पहले फेज-1 का काम होगा। इस फेज में प्रोजेक्ट के तहत साइकिल टै्रक, पब्लिक स्ट्रीट (वॉकिंग ट्रेल) पश्चिमी साईड के दोनो साईड रेलिंग लगाने का काम, दो बॉयो टॉयलेट, ग्रीन बेल्ट, ट्री प्लानटेशन, सीटिंग प्लेस, स्ट्रीट फर्नीचर जैसे कामो का अगले 10 दिनो में टैण्डर लगाया जाएगा और फिर वर्क अलॉट होने के बाद चालू वर्ष में ही इसका काम कम्पलीट करने का टारगेट लिया गया है।

समीक्षा के दौरान उपायुक्त ने बताया कि ताऊ देवी लाल चौक पर एक प्लाजा विकसित करने का प्रोजेक्ट भी इसी एजेंसी को दिया गया है और इसकी डी.पी.आर./आर.एफ.पी. भी सब्मिट हो गई है, जल्द ही इसका टैण्डर लगेगा और इसी साल ही इसका काम होगा। उन्होंने बताया कि प्लाजा में लोगों के बैठने की जगह होगी, आस-पास का एरिया ग्रीन किया जाएगा, पेवर ब्लॉक, पेंटिंग और मूर्तियां भी लगाई जाएंगी।

बैठक में शहर के 7 फ्लाईओवर से जुड़े एक प्रोजेक्ट की भी समीक्षा की गई। सीईओ के अनुसार सभी चौकों का जियोमैट्री डिजाईन कर चौक पर पेंटिंग व खूबसूरत लाईटें लगाई जाएंगी। बल्डी बाईपास, निर्मल कुटिया व नमस्ते चौक फ्लाईओवर के नीचे पड़ी जगहों को बैठने की जगह के रूप में विकसित किया जाएगा। सभी चौको पर बॉयोटॉयलेट और वाटर एटीएम लगेंगे, पेंटिंग व रंग-बिरंगी लाईटें होंगी। आई.टी.आई. चौक को पूरी तरह से डव्लप किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट की आर.एफ.पी. व डी.पी.आर. तैयार हो गई है, जो गुरूवार को ही सब्मिट हो जाएग।

बैठक में मुख्य अभियंत बी.के. करदम, जी.एम. रमेश मढ़ान, एसई दीपक किंग्गर, पीएमसी प्रवीन झा व स्पोर्ट इंजीनियर मोहन शर्मा भी मौजूद थे।

Advertisement