कारगिल का हीरो, नहीं लड़ सका परिवार के जुल्मों से, पत्नी संग वृद्धाश्रम में रहने को मजबूर

सोनीपत। पाक सेना के खिलाफ कारगिल की जंग में देश को जीत दिलाने वाले एक सेवानिवृत्त सूबेदार अब वृद्धाश्रम में रहने के लिए मजबूर है। मामला हरियाणा के सोनीपत जिले का है। यहां के मयूर विहार में रहने वाले रिटायर्ड सूबेदार पारिवारिक जंग हार गए हैं।

परिवार के लोगों की उत्पीड़न से तंग होकर वह अपनी पत्नी शकुंतला देवी के साथ पांच दिन से वृद्धाश्रम में रहने को मजबूर हैं।

सूरजभान का आरोप है कि इस बारे में पुलिस को शिकायत दी गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।  रिटायर्ड सूबेदार सूरजभान ने बताया कि उनकी कोई संतान नहीं है और इसलिए परिवार की एक बच्ची को गोद लिया था। जिसकी सूरजभान ने कई साल पहले शादी कर दी। अब सूरजभान व उनकी पत्नी शकुंतला का जीवन नरक बन गया है।

उनका आरोप है कि परिवार के कुछ लोग उनके घर पर कब्जा करना चाहते हैं। इसलिए वे उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं। उनके साथ कई बार मारपीट तक की गई। इस संबंध में कोर्ट कांप्लेक्स पुलिस चौकी में मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। अब उत्पीड़न से तंग होकर उन्हें अपना घर छोड़कर वृद्धाश्रम में रहना पड़ रहा है।

कारगिल की जंग में देश को जीत दिलाने वाले रिटायर्ड सूबेदार को अब खुद के लिए अपने ही परिवार से जंग लड़नी पड़ रही है। कोर्ट कॉम्प्लेक्स चौकी प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने कहा कि सेवानिवृत्त सूबेदार की पत्नी की तरफ से परिवार की महिला पर पहले मामला दर्ज कराया गया था, जिसमें पुलिस ने कार्रवाई की थी। उस मामले में अब चालान जल्द कोर्ट में पेश किया जाएगा।

चौकी प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने कहा कि अब पता लगा कि सेवानिवृत्त सूबेदार व उनकी पत्नी वृद्धाश्रम में रह रहे हैं। उन्होंने कोई शिकायत नहीं दी है। अगर वह शिकायत देंगे तो मामले में कार्रवाई की जाएगी। इन्होंने सीनियर सिटीजन होने के कारण कोर्ट में भी शिकायत दे रखी है। कोर्ट से कोई आदेश मिलता है तो उसके अनुसार भी कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement