लाडवा: जेबीटी शिक्षक घर में लगी आग में जलकर राख

लाडवा के वार्ड नंबर आठ की शर्मा कॉॅलोनी में सोमवार सुबह माता-पिता से डेढ़ किलोमीटर दूरी पर अपने मकान में रह रहा जेबीटी शिक्षक घर में लगी आग में जलकर राख हो गया। इतना ही नहीं, घर में पड़ा सारा सामान भी आग में जल गया। मृतक रितेश करनाल जिले के छापड़ गांव के स्कूल में कार्यरत था।

मृतक रितेश के पिता सुलेख चंद ने उप दमकल विभाग को सुबह आग लगने की सूचना दी। इस पर उप दमकल विभाग की गाड़ी ने चार बार पानी ले जाकर आग को बुझाया। आग अधिक होने के कारण उप दमकल विभाग के कर्मचारी किसी भी सामान को नहीं बचा पाए। राकेश के माता-पिता डेढ़ किलोमीटर दूर अपने मकान में अलग रहते हैं।

वहीं रितेश पत्नी के साथ इस मकान में रह रहा था। मौके पर पहुंची सीन ऑफ क्राइम की टीम ने मुआयना किया और नमूने लिए।

2018 में हुई थी रितेश की शादी : पिता सुलेख चंद ने बताया कि पिछले तीन साल से रितेश पत्नी बबीता के साथ उनसे डेढ़ किलोमीटर की दूरी रहते थे। बेटे की शादी 29 अप्रैल 2018 को हुई थी। शादी के 10 दिन बाद ही वह पत्नी के साथ अलग रहने लगा।

2011 में रितेश को जेबीटी शिक्षक के रूप में सरकारी नौकरी मिली थी। पिछले काफी समय से करनाल जिले के गांव छापड़ के स्कूल में कार्यरत था। पिता ने बताया कि रविवार रात को उनका बेटा रितेश व पत्नी बबीता में कुछ कहासुनी हो गई थी। इसके चलते पत्नी रविवार रात लगभग दो बजे अपने परिवार के लोगों के साथ मायके साहा चली गई थी और रितेश घर पर अकेला था।

सोमवार सुबह साढ़े 5 बजे आसपास के लोगों ने उन्हें बताया कि उनके बेटे के घर में आग लगी है। जब वह मौके पर पहुंचे तो देखा कि घर में पूरी तरह से आग लगी थी और उनका बेटा जल चुका था।

परिजनों का आरोप, रितेश की पत्नी को रात को दो बजे ले गए थे मायके वाले साथ

शनिवार को पत्नी का एचटेट दिलवाने गया था अम्बाला

मृतक रितेश की मां राजरानी ने बताया कि उनका बेटा रितेश पत्नी को एचटेट का पेपर दिलवाने के लिए शनिवार सुबह कार से अम्बाला सिटी के लिए गया था। शनिवार शाम को पेपर दिलवाने के बाद ससुराल साहा चला गया था। वहीं रविवार को भी पत्नी का एचटेट का दूसरा पेपर था।

रविवार दोपहर 12.30 बजे रितेश का फोन आया कि वह पत्नी के साथ शाम 4 बजे तक लाडवा वापस पहुंच जाएगा और खाना बनाकर तैयार रखना, लेकिन वह शाम 4 बजे पत्नी को लेकर लाडवा आने की बजाय ससुराल साहा चला गया। इसके बाद रात को साढ़े 11 बजे रितेश के ससुर का फोन आया कि हम अपनी बेटी का सामान लेने के लिए आ रहे हैं और रितेश भी हमारे साथ अपनी अलग कार में आ रहा है। इसके बाद उसके बेटे के ससुर उसकी बहू और सामान को लेकर रात के 2 बजे चले गए।

रितेश की पत्नी करती थी झगड़ा : मृतक की बहन

मृतक रितेश की बहन गीता ने बताया कि भाई रितेश ने बहुत संघर्ष करके नौकरी हासिल की। उसने मुझे खूब पढ़ाया। यहां तक कि बीएड भी करवाई। उसके संबंध पत्नी के साथ सही नहीं थे और उसकी पत्नी आए दिन झगड़ा करती थी।

अभी बताना मुश्किल कैसे हुई मौत : थाना प्रभारी

लाडवा थाना प्रभारी कुलदीप सिंह ने कहा कि अभी यह बताना मुश्किल है कि शिक्षक रितेश की मौत कैसे हुई। उन्होंने कहा कि घर में आग किस कारण और कैसे लगी, इसकी जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट और फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट आने के बाद इस बारे में पता चल पाएगा। उन्होंने बताया कि मृतक रितेश के पिता सुलेख चंद की शिकायत पर रितेश की पत्नी बबीता व साले प्रिंस सहित दो अन्य लोगों के खिलाफ धारा 306 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Advertisement