भारत की असली ताकत: चीन-पाक सीमा पर बदलेगा नजारा, आर्मी ने की ये तैयारी

नई दिल्ली: चीन और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए इन दोनों देशों से लगने वाली सीमा पर भारतीय सेना की ताकत और मजबूत की जाएगी। दोनों देशों की सीमा पर पिनाका रॉकेट लॉन्चर की तैनाती की जाएगी। चीन के साथ एलएसी पर बढ़ते तनाव के बीच रक्षा मंत्रालय ने पिनाका रॉकेट लॉन्चर खरीदने के लिए 2580 करोड़ रुपए का समझौता किया है। रक्षा मंत्रालय ने सेना की छह रेजिमेंटों के लिए दो अग्रणी घरेलू रक्षा कंपनियों के साथ पिनाका रॉकेट लॉन्चर खरीदने का करार किया है।

रक्षा मंत्रालय ने किया 2580 करोड़ का करार

भारत रक्षा मंत्रालय ने पिनाका रॉकेट लॉन्चर के लिए टाटा पावर कंपनी लिमिटेड (टीपीसीएल) और लार्सन एंड टूब्रो (एलएनटी) के साथ 2580 करोड़ रुपए का करार किया है। रक्षा क्षेत्र के सरकारी उपक्रम भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (बीईएमएल) को भी इस परियोजना में शामिल किया गया है।

बीईएमएल को ऐसे वाहनों की आपूर्ति की जिम्मेदारी सौंपी गई है जिन पर रॉकेट लांचर को रखा जाएगा। जानकार सूत्रों का कहना है कि इस रॉकेट लॉन्चर की मदद से देश की सैन्य ताकत में और इजाफा होगा।

डीआरडीओ ने किया है विकास

रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि छह पिनाका रेजिमेंट में ऑटोमेटेड गन एमिंग एंड पोजिशनिंग सिस्टम के साथ 114 लांचर और 35 कमान पोस्ट भी होंगे। रक्षा मंत्रालय से जुड़े सूत्रों का कहना है हथियार प्रणाली में 70 फीसदी सामग्री स्वदेशी होगी।

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तथा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से परियोजना को मंजूरी मिल चुकी है। पिनाका मल्टीपल लॉन्च रॉकेट सिस्टम (एमएलआरएस) का विकास डीआरडीओ ने किया है। इसे रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा है।

सेना ने नाकाम की चीन की साजिश

इस बीच भारत की ओर से पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के दक्षिणी छोर पर चीन की घुसपैठ की एक और कोशिश को नाकाम कर दिया गया है। एलएसी पर चीन की साजिश को भांपते हुए भारतीय सेना की ओर से अहम ठिकानों पर स्थिति और मजबूत कर दी गई है।

एलडएसी पर चीन की यथास्थिति बदलने की साजिश के जवाब में भारतीय सेना की ओर से सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण ठिकानों पर सैनिकों और हथियारों की तैनाती बढ़ा दी गई है। इसके साथ ही भारतीय सेना ने इलाके में निगरानी तंत्र को भी मजबूत बना लिया है।

सामरिक स्थानों पर तैनाती और मजबूत

सेना के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद का कहना है कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने 29-30 अगस्त की रात में एलएसी के आसपास के इलाकों की यथास्थिति बदलने की कोशिश की थी, लेकिन भारतीय सेना ने चीन को मुंहतोड़ जवाब देते हुए उसकी साजिश को नाकाम कर दिया। प्रवक्ता ने बताया चीन की साजिशों को नाकाम करने के लिए और एलएसी पर यथास्थिति को बनाए रखने के लिए सेना की ओर से ठोस कदम उठाए गए हैं।

भारतीय सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने शीर्ष सैन्य अधिकारियों की बैठक में स्थिति की समीक्षा की और फिर इलाके में भारतीय सेना की तैनाती को मजबूत करने का फैसला किया गया। चीन के उकसाने वाली कार्रवाई के बाद भारतीय सेना की ओर से लद्दाख इलाके में जंगी विमानों की तैनाती कर दी गई है। भारतीय सेना ने चीनी इरादों को भांपते हुए लड़ाकू विमान जे-20 को इलाके में तैनात कर दिया है।

तिलमिलाए चीन ने लगाया आरोप

भारतीय सेना की ओर से तैनाती को और मजबूत किए जाने और साजिश में विफल रहने के बाद चीन और तिलमिला गया है। भारतीय सेना की कार्रवाई से तिलमिलाए चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने उल्टे भारत की सेना पर ही आरोप मढ़ा है।

चीन की सेना का कहना है कि भारतीय सैनिकों ने दोनों देशों के बीच बहुस्तरीय वार्ता में आम सहमति के फैसले का उल्लंघन किया है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने वेस्टर्न थिएटर कमांड के हवाले से कहा कि भारतीय सेना ने सोमवार को सीमा पर फिर एलएसी को पार

Advertisement