दुबई में नर्क से भी बदतर जिंदगी जी रहे हैं भारतीय, shocking तस्वीरें देख नहीं होगा आखों पर यकीन

दुबई: विश्व के धनी शहरों में से एक दुबई पूरी दुनिया में बेहतर लाइफस्टाइल और खूबसूरती के लिए मशहूर है। इसी खूबसूरती से प्रभावित होकर हर साल लाखों सैलानी वहां घूमने जाते हैं। लेकिन दुबई का एक पहलू एक और है जिसे बहुत कम लोग जानते हैं। दरअसल दुबई की खूबसूरती की चकाचौंध से दूर एक मोहल्ला ऐसा भी है जहां भारत से मजदूरी करने गए लोग रहते हैं। इस मोहल्ले का नाम है सोनापुर।

इस बस्ती में बांग्लादेश, पाकिस्तान, चीन और भारत से गए मजदूर दिन भर काम करने के बाद रहते हैं, लेकिन उनका हाल वहां किसी जानवरों से कम नहीं है। भारत सहित दूसरे देशों से दुबई गए लोगों को 14 हजार रुपए महीना में सारा दिन काम कराया जाता है। शाम होते ही सारे मजदूरों को जानवरों की तरह गाड़ी में भरकर सोनापुर में छोड़ दिया जाता है। जहां सबको मुर्गियों के दड़बेनुमा कमरों में भर दिया जाता है। आज से कुछ साल पहले एक फोटोग्राफर ने अपनी फोटो के जरिए भारत से कुछ बनने का सपना लेकर दुबई जाने वाले लोगों की दयानीय हालत के बारे बताया था। यह फोटो सोशल मीडिया पर फिर से वायरल हो रही है।

ये मजदूर दुबई में बेहद कम मजदूरी में घंटों काम करते हैं। उनकी हालत काफी दयनीय होती है।

गंदगी के बीच ही रहने को मजबूर होते हैं ये मजदूर। यहां भारतीय मजदूरों की जिंदगी जीने के लिए काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है।

कुछ लोग वीकेंड्स पर एक्स्ट्रा इनकम के लिए खाना बनाकर बेचते हैं।

तेज गर्मी में इन्हें 14 घंटे काम करना पड़ता है। कई बार तो पारा 50 डिग्री भी पहुंच जाने के बाद इन्हें काम करना पड़ता है।

काफी कम मेहनताना मिलता के कारण वह अधिकांश हिस्सा वो अपने घर पर भेज देते हैं। बचे हुए पैसों से घर का किराया और अपना खाना पीना करते हैं।

सोनपुर में लगने वाले मार्केट में उन्हें सस्ती सब्जियां मिल जाती है।

Advertisement