भीड़ कम करने के प्रयास में भारतीय रेल, बदलाव का दौर किया जारी

Advertisement

------------- Advertisement -----------

नई दिल्ली । विभिन्न रुटों पर व्यस्तता और भीड़ भाड़ कम करने के क्रम में भारतीय रेलवे ( Indian Railways ) प्रयासरत है। यह जानकारी रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव (Vinod Kumar Yadav) ने दी है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए बताया, ‘ कुल रेल मार्गों में से 7 मार्ग की पहचान हाई-डेंसिटी नेटवर्क (HDN) के तौर पर की गई है। इसकी कुल लंबाई 11 हजार 2 सौ 95 किमी है। इन मार्गों पर 60 फीसद ट्रैफिक है। इसलिए, हम इन मार्गों पर ट्रैफिक कम करने की कोशिश कर रहे हैं।’

उन्होंने आगे बताया, ‘मार्च 2024 तक रेलवे HDN और हाइली यूटिलाइज्ट नेटवर्क (highly utilised networks, HUN) को डबल और विद्युतिकरण करने की योजना बना रही है।’ बोर्ड के चेयरमैन ने प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के बारे में भी बात की और बताया, ‘ कंट्रैक्ट के आम शर्तों (GCC) को संशोधित किया गया है।’  बोर्ड के चेयरमैन ने प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के बारे में भी बात की और बताया, ‘ कंट्रैक्ट के आम शर्तों (GCC) को संशोधित किया गया है।’  भारतीय रेलवे अपनी ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने पर भी जोर दे रहा है। दिल्ली से मुंबई और दिल्ली से हावड़ा तक दो मार्गों पर 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पर ट्रेनों को चलाने की तैयारी हो रही है। इसका मकसद कम समय में तेजी से यात्रियों की आवाजाही सुनिश्चित करना है।

Advertisement

गुरुवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय रेलवे में अहम बदलाव का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि अगले साढ़े तीन साल में 100 फीसद विद्युत चालित रेल नेटवर्क बन जाएगी। रेल मंत्री ने यह भी कहा कि वर्तमान में केवल 55 फीसद नेटवर्क विद्युत चालित है और यह साढ़े तीन साल में 100 फीसद विद्युत चालित नेटवर्क हो जाएगा।इसके अलावा, रेल मंत्री ने यह भी कहा कि सौ फीसद विद्युत चालित रेल नेटवर्क बनाने के क्रम में 1,20,000 किमी का ट्रैक होगा।

कोरोना संकट के मद्देनजर भारतीय रेलवे बदलाव के दौर से गुजर रहा है।  रेल मंत्रालय लगातार नई चीजों को लेकर प्रयोग कर रहा है। इस क्रम में भारतीय रेलवे की ओर से एक अहम घोषणा भी की गई है जिसके तहत 2024 तक 100 फीसद रेल मार्गों  का विद्युतिकरण कर दिया जाएगा।

Advertisement