बारिश में घर गिरने से बेघर हुआ विधायक, ईमानदारी इतनी कि पक्का मकान भी नही बनवा पाए

Advertisement

------------- Advertisement -----------

खपरैल का मकान गिरने से बेघर हुए पूर्व विधायक, ईमानदारी ऐसी कि एक मकान तक नहीं बनवा पाए

रविवार रात की बारिश में गोरखपुर जिले के मानीराम स्थित खपरैल का मकान गिर जाने से पूर्व विधायक हरिद्वार पांडेय बेघर हो गए हैं। स्थिति यह हो गई है कि बहू और चार पोते-पोतियों के साथ पूरा परिवार बरामदे में रहने को मजबूर है। मकान गिरने की खबर पाकर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव विश्वविजय सिंह सोमवार को उनके घर पहुंचे। उन्होंने पूर्व विधायक को हर संभव मदद की बात कही और कहा कि पार्टी आपके साथ खड़ी है।

Advertisement

हरिद्वार पांडेय 1980-85 में मानीराम विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी से विधायक रहे। 88 साल की उम्र में उनके पास जमापूंजी के नाम पर मानीराम में करीब ढाई बीघा जमीन और एक खपरैल का मकान है। रविवार रात खपरैल का मकान भी बारिश की भेंट चढ़ गया। चारों कमरे भरभरा कर गिर गए। बस एक बरामदा बचा रह गया।

पूर्व विधायक हरिद्वार पांडेय आज की चकाचौंध वाली राजनीति के अपवाद हैं। ईमानदारी की भावना इतनी प्रबल रही कि विधायक रहने के बावजूद वह एक ठीकठाक मकान तक नहीं बनवा सके। हरिद्वार पांडेय पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय वीर बहादुर सिंह के घनिष्ठ मित्र रहे हैं।

कांग्रेस के स्वर्णिम काल में विधायक रहने और वीर बहादुर सिंह का बेहद नजदीकी हरिद्वार पांडेय की नैतिकता के मानदंड कितने ऊंचे हैं, यह आसानी से समझा जा सकता है। उन्होंने कहा कि 88 साल की उम्र में भी वह कांग्रेस के निष्ठावान कार्यकर्ता के रूप में काम कर रहे हैं।

पूर्व विधायक हरिद्वार पांडेय ने कहा कि ढाई बीघा जमीन है, उसी से जीवन-यापन कर लेते हैं। मकान गिरने के बाद अब थोड़ी मुश्किल होगी। टाट-पट्टी बांधकर इसी में रहना पड़ेगा। बरामदा खुला हुआ है, इसलिए ठंड भी लग रही है। देखते हैं, आगे क्या होता है।

Advertisement