आजमगढ़ प्लेन क्रैश में हरियाणा के पायलट कोणार्क की मौत, ट्रेनिंग खत्म होते ही होनी थी शादी

पलवल. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी के क्रैश हुए एयरक्राफ्ट में पलवल (Palwal) की आदर्श कॉलोनी निवासी 30 वर्षीय प्रशिक्षु पायलट कोणार्क सरन की मौत हो गई. अकादमी से उड़ान भरने के बाद प्‍लेन आजमगढ़ जिले के फ़रीद्दीनपुर गांव में क्रैश हुआ. क्रैश होने का कारण मौसम खराब होने और बिजली गिरना बताया जा रहा है. मंगलवार को कोणार्क सरन का शव पलवल पहुंचा जहां उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. परिजनों ने बताया कि ट्रेनिंग खत्‍म होने के बाद कोणार्क की शादी होनी थी.

सोमवार सुबह अमेठी के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान एकेडमी (आइजीयूआरए) का एक फोर सीटर टीबी-20 एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया था. एयरक्राफ्ट को उड़ा रहे पलवल की आदर्श कॉलोनी निवासी ट्रेनी पायलट कोणार्क सरन की मौत हो गई. ट्रेनी पायलट कोणार्क सरन की मौत का समाचार सुनते ही कॉलोनी में कोहराम मच गया. कोणार्क अपने माता-पिता की अकेली संतान थे.

तीन बहनों का भाई था कोणार्क

तीन बहनों का लाडला कोणार्क ने थापर यूनिवर्सिटी से बीटेक की थी. बीटेक पास करने के बाद कोणार्क ने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी में पायलट ट्रेनिंग के लिए करीब दो साल पहले दाखिला लिया था. वह सोलो उड़ान पर थे और मौसम खराब होने के कारण एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया. मंगलवार को पायलट कोणार्क का पार्थिव शरीर पलवल पहुंचा.

जन्मदिन पर कही थी घर आने की बात

अंतिम संस्कार के दौरान बड़ा ही गमगीन माहौल नजर आया. कोणार्क के साथ ट्रेनिंग लेने वाले उनके साथी और परिजन फूट फूट कर रो रहे थे. कोणार्क के पड़ोसी ने बताया की कोणार्क बहुत ही होनहार थे और उसके माता पिता के साथ सभी को उनपर गर्व था. उन्होंने बताया की अक्टूबर महीने में कोणार्क का जन्मदिन था और इस घटना से एक दिन पहले ही उन्‍होंने अपनी मां से कहा था की अबकी बार जन्मदिन घर पर ही मनाएंगे. परिजनों ने बताया कि ट्रेनिंग पूरी होते ही कोणार्क की भी शादी होनी थी. घर में काफी रिश्ते आ रहे थे. कई जगह बात चल रही थी.

Advertisement