उत्तराखंड में शुरू हुई अच्छी पहल, अब भूमि पर पति के साथ पत्नियों को भी मिलेगा मालिकाना हक

Advertisement

------------- Advertisement -----------

उत्तराखंड सरकार ज़मीन के मालिकाना हक से जुड़े एक्ट, जमींदारी भूमि विनाश अधिनियम (ZLR) में बड़े संशोधन की तैयारी में है. अगर वह अपनी इस कोशिश में कामयाब रही, तो राज्य में जल्द ही पंरपरागत रूप से चली आ रही ज़मीन का मालिकाना हक अब पत्नियों के पास भी होगा. आगामी 24 जुलाई को इस मामले में बैठक होनी है.

दरअसल, अभी तक राज्य में ज़मीन का अधिकार पुरुष के पास ही है. उसके बाद ज़मीन बेटे के पास चली जाती है. सरकार इसको बदलना चाहती है. मौजूदा एक्ट में पहले भी एक संशोधन किया गया था, जिसके बाद जमीन पर विधवा को अधिकार दिया गया है. अब पुत्री को भी ज़मीन का यह अधिकार देने पर विचार किया जा रहा है.

Advertisement

इसी को आगे बढ़ाते हुए अब राज्य सरकार पत्नियों को भी अधिकार देना चाहती है, जिसके लिए ज़मींदारी भूमि विनाश अधिनियम में संशोधन की ज़रूरत है, इसे लेकर सरकार गंभीर नज़र आ रही है. अगर वो अपने इस कदम में कामयाब होती है तो इसका सबसे अधिक फ़ायदा उन महिलाओं को होगा, जो पहाड़ में खेती का काम करती हैं.

मगर उनके नाम कोई ज़मीन नहीं है, अगर उन्हें ज़मीन पर मालिकाना हक मिलता है, तो वो उसका उपयोग बैंक लोन जैसी अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ लेने में कर सकती हैं.

Advertisement