गाड़ी की रफ्तार आपके ड्राइविंग लाइसेंस को करवा सकती है सस्पेंड, जानें हरियाणा में कितनों पर गिरी गाज

रोहतक। सेफ और सुरक्षित ड्राइविंग के लिए ट्रैफिक पुलिस भले ही कितने भी जागरूकता अभियान चलाती हो, लेकिन हकीकत यह है कि वाहन चालक अभी भी लापरवाही की रफ्तार से दौड़ रहे हैं। जो ना केवल अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं, बल्कि दूसरे की जिंदगी से भी खिलवाड़ कर रहे हैं। हालांकि इन पर शिकंजा भी कसा जा रहा है। वर्ष 2021 का आंकड़ा देखें तो जिले में ओवरस्पीड के 3073 चालान काटे गए। यानी कि इतनी बड़ी तादात में ड्राइविंग लाइसेंस सस्पेंड करने पड़े। हैरानी की बात यह है कि पिछले कुछ वर्षों की तुलना करें तो यह आंकड़ा सबसे ज्यादा है।
ओवरस्पीड वाहन चलाने पर यह होती है कार्रवाई

यदि कोई चालक वाहन को निर्धारित स्पीड से अधिक चला रहा है तो ट्रैफिक पुलिस की इंटरसेप्टर गाड़ी दूर से ही उसे ट्रेस कर लेती है। ओवरस्पीड मिलने पर ड्राइवर का लाइसेंस तीन माह के लिए सस्पेंड किया जाता है। ड्राइविंग लाइसेंस सस्पेंड होने के बाद उसे संबंधित अर्थारिटी के पास भेजा जाता है।

यदि कोई व्यक्ति उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद का रहने वाला है और उसका ओवरस्पीड का चालान रोहतक मेें काटा जाता है तो उसका लाइसेंस इलाहाबाद आरटीओ के पास भेजा जाएगा। जुर्माना राशि भरकर तीन माह बाद वह अपना ड्राइविंग लाइसेंस ले सकता है। ओवरस्पीड वाहन मिलने पर दो हजार रुपये ओवरस्पीड और पांच हजार रुपये डेंजर ड्राइविंग का जुर्माना लगता है। कुल मिलाकर सात हजार रुपये जुर्माना भरना होता है।

2020 में ओवरस्पीड का नहीं कटा एक भी चालान

ट्रैफिक पुलिस का आंकड़ा देखें तो 2020 में ओवरस्पीड का जिले में एक भी चालान नहीं कटा। इसके पीछे वजह यह थी कि ओवरस्पीड का चालान काटने के लिए इंटरसेप्टर गाड़ी की जरूरत होती है, जिसमें अत्याधुनिक कैमरे समेत अन्य उपकरण लगे रहते हैं। 2020 में दो गाड़ियां आई थी, लेकिन तकनीकी खामी के चलते उन्हें वापस भेज दिया गया था। जिस कारण ओवरस्पीड के चालान नहीं कट सके। इसके बाद 2021 में यह गाड़ी अत्याधुनिक तकनीक से लैस होकर रोहतक भेजी गई। फिलहाल ट्रैफिक पुलिस के पास ऐसी दो गाड़ियां है।
बिना हेलमेट काटे गए 6497 चालान

पिछले साल बिना हेलमेट मिलने पर 6497 चालान काटे गए। इसके अलावा नंबर प्लेट को लेकर भी बड़ी तादात में चालान काटे गए। साल भर में 11622 वाहनों के चालान काटे गए। जिसमें कुछ पर नंबर प्लेट नहीं थी तो किसी पर नियमानुसार नंबर अंकित नहीं था। कुल मिलाकर साल भर में ट्रैफिक रूल के 25 नियमों के तहत पुलिस ने 62416 चालान काटे। जिनसे चार करोड़ से अधिक जुर्माना राशि वसूली गई।
2020 में नहीं था ओवर स्पीड का एक भी चालान, 2021 में काटे गए 3073 चालान

यातायात नियमों को लेकर वाहन चालकों को जागरूक भी किया जा रहा है। फिर भी यदि कोई इसका उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वर्ष 2021 में ट्रैफिक पुलिस ने सबसे अधिक चालान काटे हैं। आम जनता से अपील है कि नियमों का पालन करे।