अंतरिक्ष से धरती की ओर आ रही माउंट एवरेस्ट से भी बड़े आक़ार की यह चीज़ , सिर्फ 48 घंटे बाकी…वैज्ञानिक परेशान

तैयार हो जाइए, आसमान का एक खतरनाक नजारा देखने के लिए…क्योंकि धरती के बगल से गुजरने वाली है अंतरिक्ष की एक बड़ी आफत| सिर्फ 48 घंटे बाकी हैं| कोरोना से जूझ रही दुनिया के सामने नई मुसीबत अंतरिक्ष से आ रही है| इसे लेकर दुनिया भर के वैज्ञानिक परेशान हैं| अगर दिशा में जरा सा भी परिवर्तन हुआ तो खतरा बहुत ज्यादा होगा|

Image

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने करीब डेढ़ महीने पहले खुलासा किया था कि धरती की तरफ एक बहुत बड़ा एस्टेरॉयड तेजी से आ रहा है| बताया जाता है कि यह एस्टेरॉयड धरती के सबसे ऊंचे पहाड़ माउंट एवरेस्ट से भी कई गुना बड़ा है| इस, एस्टेरॉयड की स्पीड 31,319 किलोमीटर प्रतिघंटा है| यानी करीब 8.72 किलोमीटर प्रति सेंकड| इतनी गति से यह अगर धरती के किसी हिस्से में टकराएगा तो बड़ी सुनामी ला सकता है| या फिर कई देश बर्बाद कर सकता है|

हालांकि, नासा का कहना है कि इस एस्टेरॉयड से घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह धरती से करीब 62.90 लाख किलोमीटर दूर से गुजरेगा| अंतरिक्ष विज्ञान में यह दूरी बहुत ज्यादा नहीं मानी जाती लेकिन कम भी नहीं है| कुछ वैज्ञानिकों ने इसके धरती से टकराने की भी आशंका जताई है|

अंतरिक्ष से धरती की ओर आ रही बड़ी आफत, 48 घंटे बाकी...वैज्ञानिक परेशान

इस एस्टेरॉयड को 52768 (1998 OR 2) नाम दिया गया है| इस एस्टेरॉयड को नासा ने सबसे पहले 1998 में देखा था| इसका व्यास करीब 4 किलोमीटर का है| यह एस्टेरॉयड 29 अप्रैल की दोपहर 3.26 बजे करीब धरती के पास से गुजरेगा| धरती से इसकी दूरी करीब 62.90 लाख किलोमीटर होगी|

भारत में इस समय दोपहर का समय होगा, दिन की रोशनी में आप इसे खुली आंखों से देख नहीं पाएंगे| इस बारे में अंतरिक्ष विज्ञानी डॉक्टर स्टीवन प्राव्दो ने बताया कि उल्का पिंड 52768 सूरज का एक चक्कर लगाने में 1,340 दिन या 3.7 वर्ष लेता है|

इसके बाद एस्टरॉयड 52768 (1998 OR 2) का धरती की तरफ अगला चक्कर 18 मई 2031 के आसपास हो सकता है| तब यह 1.90 करोड़ किलोमीटर की दूरी से निकल सकता है|

खगोलविदों के मुताबिक ऐसे एस्टेरॉयड का हर 100 साल में धरती से टकराने की 50,000 संभावनाएं होती हैं. लेकिन, किसी न किसी तरीके से ये पृथ्वी के किनारे से निकल जाते हैं|

खगोलविदों के अंतरराष्ट्रीय समूह के डॉ. ब्रूस बेट्स ने ऐसे एस्टेरॉयड को लेकर कहा कि छोटे एस्टेरॉयड कुछ मीटर के होते हैं| ये अक्सर वायुमंडल में आते ही जल जाते हैं| इससे कोई बड़ा नुकसान नहीं होता है|

बता दें कि साल 2013 में लगभग 20 मीटर लंबा एक उल्कापिंड वायुमंडल में टकराया था| एक 40 मीटर लंबा उल्का पिंड 1908 में साइबेरिया के वायुमंडल में टकरा कर जल गया था|

Advertisement