पहले सिर पर कड़ा मारा, फिर नाक- मुंह में भरा पानी, पिता ने 2 साल के बेटे का बेरहमी से किया कत्ल

भोपाल: भोपाल के कोलार इलाके में एक बेहद सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां एक पिता ने अपने ही 2 साल के बेटे को इस शक के चलते मार डाला कि यह उसका बेटा नहीं है। आरोपी ने बड़ी ही बेरहमी से मासूम के सिर पर कड़ा मारकर बेहोश किया। फिर मुंह और नाक में पानी भर दिया था।

जब पत्नी घर पहुंची, तो बेटे को देख सहम गई। आरोपी पत्नी को डरा धमकाकर रात भर मामले को छिपाने की साजिश रचता रहा। लेकिन पुलिस की सख्त पूछताछ के बाद आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। बताया जा रहा है कि आरोपी कुछ दिन पहले भी बेटे को जान से मारने की कोशिश कर चुका था, लेकिन असफल हो गया।

father brutally murdered his 2 year old son

मेरा बेटा नहीं है आर्यन- पिता विनोद

बांसखेड़ी इलाका निवासी विनोद को शक का था कि उसका दो साल बेटा आर्यन परते किसी और का है। उसकी पत्नी कई दिनों से उसके साथ नहीं रह रही थी। करीब 20 दिन पहले ही दोनों में सुलह हुई थी। उसके बाद वह बेटे के साथ उसके पास रहने आ गई। टीआई ने बताया कि उसकी पत्नी इससे पहले कोटरा स्थित पंचशील नगर में रह रही थी।

हैवानियत की सारी हदें की पार…

विनोद ने बताया, पत्नी घर से कहीं चली गई थी। उस दौरान वह बेटे के साथ घर पर था। अचानक लाइट भी चली गई थी। उसने मोमबत्ती जलाई और फिर बेटे के सिर पर जोर से कड़ा मार दिया। बेटा जोर-जोर से रोने लगा, लेकिन उसे मार डाला। उसके बाद हत्या को दुर्घटना बताने के लिए मुंह और नाक में पानी भरने के बाद डिब्बा उसके ऊपर रख दिया।

इससे पहले पिता ने गड़ी थी झूठी कहानी…

इतना बड़ा अपराध करने के बाद आरोपी विनोद ने झूठी कहानी गड़ दी। उसने पत्नी और पुलिस को बताया कि गुरुवार शाम पत्नी पहले ही कहीं गई हुई थी। वह भी किसी काम से बेटे को घर पर अकेला छोड़कर चला गया था। बेटा पानी के डिब्बे के पास खेल रहा था। वहां पर लाइट नहीं होने से अंधेरा था। जब वह लौटा, तो आर्यन डिब्बे के नीचे दबा पड़ा था। उसके मुंह और नाक में पानी भरा था। उसे अस्पताल ले गए थे।

सब झूठ निकला सच ये था

विनोद ने पुलिस को जो बताया सब झूठ निकला उसने पत्नी को और पुलिस को झूठ बताया लेकिन विनोद के बयानों और घटनास्थल की तफ्तीश करने पर कई सवाल खड़े हुए। उसके बाद जब विनोद से पूछताछ की गई, तो मामले का खुलासा हो गया। वह आर्यन को अस्पताल नहीं गया था। जब पत्नी आई, तो उसके साथ ही घर के अंदर गया था। बाद में उसने पत्नी को सबकुछ बता दिया था। दोनों के बयान मेल नहीं खा रहे थे। लेकिन जब विनोद से सख्ती से पूछताछ की गई, तो उसने पत्नी पर आरोप लगाते हुए कहा कि आर्यन उसका बेटा नहीं है, इसलिए उसे मार दिया।

15 दिन पहले भी किया था प्रयास

टीआई ने बताया, विनोद ने 15 दिन पहले भी आर्यन को मारने की कोशिश की थी। इसी दौरान उसका हाथ फ्रैक्चर हो गया था। परिजन के आ जाने के कारण वह बच गया था।

Advertisement