बैल की जगह बेटियों को लगाकर खेत जोतने वाले किसान की सोनू सूद ने की ये मदद

Advertisement

------------- Advertisement -----------

हजारों प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाकर रियल लाइफ हीरो बने सोनू सूद ने एकबार फिर अपने काम से लोगों का दिल जीत लिया। उन्होंने आंध्र प्रदेश के एक किसान के परिवार को ट्रैक्टर उपहार में दिया है। ये किसान बैल नहीं होने की वजह से अपनी बेटियों को हल में लगाकर खेत जोत रहा था। सोनू का कहना है कि इस वक्त हर किसी को आगे आकर देश के किसानों की मदद करना चाहिए।

इस किसान का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें बताया गया था कि आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के मदनपल्ले गांव में टमाटर किसान अपनी बेटियों को लेकर हल जोतने के लिए मजबूर है, क्योंकि उसके पास बैलों को किराये पर लेने के लिए पैसे नहीं है। कोरोनावायरस महामारी की वजह से पिछली बार उसे भारी नुकसान हुआ था। हाथ में नकदी नहीं होने के बाद उसने उदासी के साथ खरीफ के मौसम की तैयारी शुरू कर दी है। #आंध्रप्रदेश

Advertisement

सोनू बोले- शाम तक आपके पास ट्रैक्टर होगा

रविवार को किसान के इस वीडियो को जब सोनू ने देखा तो उन्होंने इसे रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘इस परिवार को बैल के जोड़े की जरूरत नहीं है… उन्हें एक ट्रैक्टर की जरूरत है। इसलिए आपको एक भेज रहा हूं। शाम तक एक ट्रैक्टर आपके खेत को जोत रहा होगा। खुश रहो।’

सोनू ने पूरा किया अपना वादा

जैसा कि सोनू ने अपने ट्वीट में कहा था कि शाम तक किसान परिवार के पास ट्रैक्टर होगा, उन्होंने अपना वादा पूरा किया और उस परिवार को नया ट्रैक्टर मिल गया। जिसके बाद आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और तेलुगुदेशम पार्टी के अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू ने भी ट्वीट करते हुए उनकी तारीफ की।

पूर्व मुख्यमंत्री ने बढ़ाया हौसला

नायडू ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘सोनू सूद जी से बात की और चित्तूर जिले के नागेश्वर राव परिवार के लिए ट्रैक्टर भेजने के उनके प्रेरक प्रयासों की सराहना की। परिवार की दुर्दशा को देखकर मैंने उनकी दोनों बेटियों की शिक्षा का प्रबंध करने और उनके सपनों को पूरा करने में मदद करने का फैसला किया है।’

सोनू ने व्यक्त किया आभार

नायडू को जवाब देते हुए सूद ने लिखा, ‘उत्साह बढ़ाने के लिए आपका धन्यवाद सर, आपकी दयालुता सभी को आगे आकर और जरूरतमंदों की मदद करने के लिए प्रेरित करेगी। आपके मार्गदर्शन में लाखों लोगों को अपने सपनों को हासिल करने का एक रास्ता मिल जाएगा। प्रेरित करते रहें सर। मैं जल्द ही आपसे मिलने की उम्मीद करता हूं।’

देश के किसानों को बचाने का वक्त है

सोमवार को इस घटना से जुड़ी एक खबर शेयर करते हुए सूद ने लिखा, ‘मुझे खुशी है हम उनके जीवन में ये बदलाव ला सके। इस समय हर किसी को आगे आकर अपने देश के किसानों को बचाना चाहिए।’

चाय की दुकान चलाते थे राव

पीड़ित किसान का नाम नागेश्वर राव है, जिनकी बड़ी बेटी बारहवीं की पढ़ाई पूरी कर चुकी है, वहीं दूसरी बेटी दसवीं पास है। कुछ वक्त पहले तक राव मदनपल्ले में चाय की दुकान चलाते थे, लेकिन कोरोना की वजह से लगे लॉकडाउन के बाद उनका धंधा बंद हो गया। जिसके बाद वे वापस अपने महालराजपल्ले गांव लौट आए।

Advertisement