हरियाणा में रेलवे ट्रैक पर उतरे किसान, यात्रियों के लिए लगाया लंगर

रोहतक। तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों के आह्वान पर किसान 12 बजे रेलवे ट्रैक पर उतरे और इस अभी ट्रेनों को चार बजे तक बाधित रखा जाएगा। किसानों द्वारा रेलवे ट्रैक जाम करने के आह्वान के बाद प्रदेशभर में राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) व रेलवे पुलिस फोर्स (आरपीएफ) ने स्टेशन पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। वहीं दूसरी ओर किसान संयुक्त मोर्चा ने भी किसानों को आह्वान किया है कि रेल रोको अभियान पूरी तरह शांतिपूर्ण तरीके से चलाया जाए।

इस दौरान कोई भी किसान सरकारी कर्मचारियों व अधिकारियों का विरोध ना करें। वहीं किसान संगठनों ने ऐलान किया है कि जहां-जहां रेल रोको आंदोलन चलेगा, वहां पर आंदोलन के साथ ही लंगर भी चलाया जाएगा और ट्रेनों में बैठे यात्रियों को खाना परोसा जाएगा। रेल रोको आंदोलन के दौरान सभी किसान शांति व्यवस्था बनाए रखेंगे और यात्रियों की सुविधा का भी ध्यान रखेंगे।

जींद मेें दिल्ली फिरोजपुर रेलवे लाइन जुलाना बरसोला तथा नरवाना में रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया गया है। जुलाना में किसानों ने रेल को रोक रखा है वहीं जींद पानीपत रेलवे लाइन पर सफीदों में किसानों ने रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया है। हिसार में रामायण गांव में रेलवे ट्रैक पर किसान पहुंच गए हैं।

रोहतक में भी मकड़ौली और लाखनमाजरा में किसान रेलवे ट्रैक पर बैँठ गए हैं। कुरुक्षेत्र में भी रेलवे स्टेशन पर किसान किसान ट्रैक पर बैठ गए हैं।सिरसा में भी रेलवे ट्रैक पर किसानों द्वारा धरना दिया गया है। बहादुरगढ़ में डीएमआरसी ने सभी मेट्रो स्टेशन के गेट बंद कर दिए हैं। रणनीति के तहत किसान चार बजे तक रेलवे ट्रैक पर बैठे रहेंगे। किसानों का कहना है कि इस दौरान यात्रियों को कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। वहीं आंदोलन के देखते हुए सभी रेलवे स्टेशनों पर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात किया गया है।

बहादुरगढ़ में टीकरी बॉर्डर पर चल रहे आंदोलन के दौरान संयुक्त किसान मोर्चा के नेता दोपहर 12 से 4 बजे तक किसान संगठनों से जुड़े प्रतिनिधि शांतिपूर्ण तरीके से रेल पटरियों पर बैठकर रोष जताएंगे। भिवानी जिले में लोहारू व सिवानी सहित चार जगहों पर रेल रोकी जाएगी। इन चारों जगहों पर रेल रोकने के लिए पटरियों पर किसानों को बैठाने को लेकर किसानों की जिम्मेदारी सौंपी है।

फतेहाबाद में जिले के भट्टूकलां व जाखल में किसानों द्वारा प्रदर्शन किया जाएगा। किसानों के प्रदर्शन को लेकर जिला प्रशासन भी सतर्क हो गया है। जिले में 500 से अधिक पुलिस कर्मचारी तैनात किए गए हैं। हिसार में बागड़ लाइन रेल मार्ग, हिसार-भिवानी रेल मार्ग, हिसार-सिरसा रेलवे लाइन, हिसार-जाखल रेल लाइन पर रेल रोकी जाएंगी। वहीं बरवाला में बरवाला ढाणी गारण वाले पुल के नीचे रेल रोकने का फैसला लिया गया।

जींद में फिलहाल चार स्थानों पर रेलवे ट्रेक जाम करने का निर्णय लिया गया है। कुरुक्षेत्र में किसान रेलवे ट्रैक पर धरना देंगे। पानीपत में भारतीय किसान यूनियन व अन्य किसान संगठन संयुक्त रूप से पानीपत जिला में टीडीआई रोड रेलवे ओवर ब्रिज के नीचे रेल रोको आंदोलन करेंगे।

पानीपत प्रशासन को आशंका है कि आंदोलनरत किसान पानीपत जिला में चार स्थानों, पानीपत में दो स्थलों व गांव इसराना में रोहतक मार्ग व गांव मतलौडा में जींद मार्ग पर रेल रोको आंदोलन कर रहे हैँं।

रेवाड़ी में गुरूवार को चार घंटे तक रेवाड़ी-रोहतक व दिल्ली-जयपुर रेलमार्ग प्रभावित रहेगा। इधर रेवाड़ी-रोहतक रेलवे लाइन पर भी पाल्हावास के पास भी धरना दिया जाएगा। सोनीपत में रेलवे ने 72 रिजर्व फोर्स जवान तैनात करने के लिए प्वाइंट बनाए हैं। आंदोलन के चलते दिल्ली-अंबाला ट्रैक पर चलने वाली पांच ट्रेनें प्रभावित रहेंगी।

इनमें दिल्ली से पानीपत जाने वाले भटिंडा एक्सप्रेस, सचखंड एक्सप्रेस, जन शताब्दी व पानीपत से दिल्ली जाने वाली पश्चिम एक्सप्रेस व रेलवे कर्मचारी स्पेशल ट्रेन शामिल हैं।

 

Advertisement