50 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों के लिए बुरी खबर! हर 3 महीने में सरकार करेगी ये काम

नई दिल्ली। 50 साल से ज्यादा उम्र के कर्मचारी अब निशाने पर है। मोदी सरकार हर तीन महीने में उनके काम की समीक्षा करेगी,  साथ ही अगर कोई कमी पाई जाती है तो उनकी छुट्टी कर दी जाएगी। दरअसल  विभाग ने सभी केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों से 50 साल या उससे ज्यादा की उम्र के कर्मचारियों का एक रजिस्टर तैयार करने को कहा है। इसके अलावा सभी विभागों के प्रमुखों को ऐसे कर्मचारियों की हर तीन महीने पर समीक्षा करने को कहा गया है।

बता दे कि काम संतोषजनक न पाए जाने पर ऐसे लोगों को नौकरी से बाहर का रास्ता भी दिखाया जा सकता है। केंद्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की ओर से शुक्रवार को इस संबंध में एक ऑफिस मेमोरेंडम भी जारी किया गया है। केंद्र की मोदी सरकार ने अपने सभी मंत्रालयों और विभागों को 50 से ज्यादा की उम्र के कर्मचारियों की प्रोफाइल तैयार करने को कहा है। इस प्रोफाइल के आधार पर उनके कामकाज की नियमित समीक्षा की जाएगी।

इन कर्मचारियों के कामकाज की हर तीन महीने पर समीक्षा की जाएगा। काम संतोषजनक न पाए जाने पर ऐसे लोगों को नौकरी से बाहर का रास्ता भी दिखाया जा सकता है। केंद्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की ओर से  इस संबंध में एक ऑफिस मेमोरेंडम भी जारी किया गया है। बतादे कि इसके अलावा निजीकरण की राह पर बढ़ रही सरकारी तेल कंपनी भारत पेट्रोलियम ऐंड कॉरपोरेशन लिमिटेड के कर्मचारी भी बेहद परेशान हैं। दरअसल लंबे समय से नौकरी कर रहे लोगों को अब कंपनी के निजी हाथों में जाने के चलते अपने भविष्य की चिंता सता रही है।

दरअसल ऐसे ही एक कर्मचारी ने कहा कि वह सिर्फ दूसरी क्लास तक पढ़े हैं और बीते 26 सालों से बीपीसीएल में निचले स्तर पर काम कर रहे हैं। वह इस कंपनी से ही रिटायर होना चाहते थे, लेकिन अब उन्हें लगता है कि निजी हाथों में जाने के बाद उनके भविष्य पर संकट आ सकता है। वह कहते हैं कि शाय़द एजुकेशन इतनी कम होने के चलते निजी प्रबंधन उन्हें स्वीकार न करे।

Advertisement