डीएसपी 3 लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार, SHO से भी पूछताछ! पढ़ें पूरी खबर

जयपुर। जयपुर एसीबी की स्पेशल टीम ने अलवर में पुलिस डीएसपी सपात खान और पुलिस लाइन के ड्राइवर असलम को 3 लाख की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया है। एसीबी ने डीएसपी के एनईबी आवास से दोनों को पकड़ा है। डीएसपी ने तिजारा के बेरला गांव निवासी राशिद खान को अलग-अलग 13 पुलिस केस में राहत दिलाने के नाम पर 13 लाख की रिश्वत मांगी थी। राशिद ने ही इसकी जयपुर स्थित एसीबी ऑफिस में की। जांच के बाद एसीबी ने डीएसपी को ट्रैप का प्लान किया।

बुधवार को परिवादी राशिद पहली किस्त के तौर पर डीएसपी को तीन लाख रुपए देने एनईबी स्थित उनके आवास पर ड्राइवर असलम के साथ पहुंचा। वहां असलम ने रुपए लेकर डीएसपी को दिए। डीएसपी ने रुपए को वहां एक बक्से में रखा। तभी पहले से तैयार एसीबी टीम ने दबिश दे दी। एसीबी को देखकर डीएसपी तीन मंजिला घर की छत पर भाग गए और वहां पड़ोसी की छत पर कूद गए। हालांकि, पहले से ही तैयार एसीबी ने डीएसपी और ड्राइवर असलम को गिरफ्तार कर लिया।

तिजारा निवासी परिवादी ने 5 जनवरी को जयपुर मुख्यालय आकर शिकायत दी थी कि मेरे परिवार के खिलाफ विरोधी गुट के लोगों ने कई केस दर्ज करा रखें हैं। इनमें गिरफ्तार नहीं करने, धाराएं कम करने और नाम हटाने के नाम की एवज पर पुलिस विभाग में ड्राइवर असलम के जरिए अलवर ग्रामीण डीएसपी सपात खान, अरावली विहार थानाधिकारी जहीर अब्बास और डीएसटी प्रभारी अलवर की ओर से 13 रुपए की रिश्वत मांगी गई है।

बुधवार सुबह परिवादी से कांस्टेबल ड्राइवर के जरिए डीएसपी ने खुद के निजी आवास पर रिश्वत की राशि ली। उसके 5 मिनट बाद में ही एसीबी की टीम घर में घुसी। जैसे ही डीएसपी को शक हुआ तो खुद की घर की तीसरी मंजिल पर जाकर पड़ोसी की छत पर चला गया। लेकिन, उसी समय एसीबी की टीम पड़ोसी के घर पहुंच गई और उसे पकड़ लिया। हालांकि, डीएसपी बाद में यह कहता रहा कि उसे फंसाया है। सच्चाई सामने आ जाएगी।

एसीबी के डीएसपी संजीव नैन ने बताया कि परिवादी के खिलाफ मारपीट, दुष्कर्म, चाेरी सहित करीब 13 अलग-अलग मामले दर्ज हैं। इन सब में रिलीफ दिलाने के नाम पर 13 लाख रुपए रिश्वत मांगी थी। उन्होंने यह भी बताया कि अरावली विहार थाना धिकारी जहीर अब्बास की शिकायत भी की गई थी। लेकिन, उनके मामले में अभी जांच की जा रही है। फिलहाल डीएसपी व कांस्टेबल को ही गिरफ्तार किया गया है।

एसीबी के इस एक्शन से अलवर ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश के पुलिस महकमें में चर्चा है। दरअसल, डीएसपी अलवर का निवासी है। लम्बे समय से यही पर ड्यूटी कर रहे हैं। अब बड़ी राशि के साथ गिरफ्तार हुए हैं। इस कारण एसीबी की कार्रवाई की ज्यादा चर्चा रही। एसीबी की टीम एक दिन पहले मंगलवार को ही अलवर आ गई थी। बुधवार को सुबह से टीम एसीबी के सम्पर्क में रही। कांस्टेबल असलम परिवादी को डीएसपी के घर लेकर गया। वहां जाकर रिश्वत की रकम दी। जिसे डीएसी के घर की दूसरी मंजिल के कमरे के एक डिब्बे से बरामद किया गया।

Advertisement