हरियाणा में डबल मर्डर: युवती संग ब्रेकअप से नाराज था युवक, नए दोस्त समेत दोनों को मार डाला…

हरियाणा के फरीदाबाद में डबल मर्डर की गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है. पुलिस ने जिम ट्रेनर और उसकी दोस्त का मर्डर करने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. जिनमें से एक मृतक युवती का पुराना दोस्त है. उसी ने अपने साथियों के साथ मिलकर इस हत्याकांड की साजिश रची थी. चारों आरोपियों को सीआईए, डीएलएफ ने गिरफ्तार किया है.

मुख्य अरोपी की पहचान प्रकाश के रूप में हुई है. हत्या को अंजाम देने से पहले उसने उज्जैन महाकाल मंदिर में काम पूरा हो जाने के बाद दोबारा दर्शन करने की मन्नत मांगी थी. लेकिन डबल मर्डर करने के बाद उसे उज्जैन जाने से पहले ही पुलिस की सीआईए टीम ने गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि प्रकाश युवती से दोस्ती टूट जाने की वजह खासा नाराज था. इसलिए उसने युवती और उसके नए दोस्त जिम ट्रेनर लोकेश को गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया था.

हत्या की यह वारदात बीती 16 फरवरी की है. एसीपी (हेडक्वार्टर) आदर्शदीप सिंह ने बताया कि एनआईटी एरिया में जिम ट्रेनर और युवती हत्याकांड के मामले में पुलिस ने 4 आरोपियों प्रकाश उर्फ प्रिंस उर्फ पीके, लक्की उर्फ नोनू, भव्य उर्फ मुन्नू और कर्ण नामक युवक को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने घटना के कुछ मिनटों बाद ही आरोपियों की पहचान कर ली थी. इसके बाद पुलिस टीम ने महज़ 3 दिन में सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

एसीपी ने जानकारी देते हुए बताया कि मुख्य आरोपी पीके से युवती की दोस्ती टूट गई थी. युवती ने जिम ट्रेनर लोकेश से दोस्ती कर ली थी. इसी वजह से नाराज आरोपी प्रकाश ने जिम ट्रेनर और अपनी पूर्व महिला मित्र के कत्ल की साजिश रची और वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपी ने अपने दोस्त लक्की और भव्य को शामिल किया. चौथे आरोपी मेरठ निवासी कर्ण से देसी पिस्टल मंगाई गई. इसके बाद डबल मर्डर की वारदात को अंजाम दिया गया.

हत्या करने से पहले मुख्य अरोपी प्रकाश उज्जैन के महाकाल मंदिर में मन्नत मांगने गया था कि इस हत्याकांड को अंजाम देने के बाद अगर पकड़ा नहीं गया तो वह दोबारा से दर्शन करने आएगा. लेकिन सीआईए डीएलएफ की टीम ने दर्शन करने से पहले ही आरोपी को पर्वतीय कॉलोनी से गिरफ्तार कर लिया. वारदात को अंजाम देने के लिए मुख्य आरोपी प्रकाश ने देसी पिस्टल कर्ण मेरठ से लेकर आया था.

ऐसे दिया था वारदात को अंजाम

16 फरवरी 2021 की शाम युवती स्कूटी लेकर अपने घर से निकली थी. आरोपी प्रकाश और लक्की अपनी स्कूटी पर सवार होकर घर से ही युवती का पीछा कर रहे थे. वे उसके पीछे 1 नंबर मार्किट तक गए. जहां युवती रुक गई थी. तभी गोल्डी उर्फ लोकेश अपनी स्विफ्ट गाड़ी से वहां आया. युवती भी लोकेश की गाड़ी में बैठ गई और दोनों बातें करने लगे. उन दोनों को गाड़ी में साथ देखकर आरोपी प्रकाश ने अपने दोस्त भव्य को फोन किया और अपने घर पर रखी पिस्टल मंगवाई.

भव्य स्कूटी पर पिस्टल लेकर प्रकाश के पास आ गया. तभी प्रकाश पिस्टल लेकर लोकेश की गाड़ी में जबरन घुस गया. लक्की और भव्य गाड़ी के पास खड़े होकर निगरानी करने लगे. आरोपी प्रकाश की जिम ट्रेनर लोकेश से बहसबाजी होने लगी. तभी आरोपी प्रकाश ने प्लान के मुताबिक गाड़ी में ही लोकेश के सिर और मयंका की छाती में गोली मार दी. इसके बाद तीनों आरोपी मौके से फरार हो गए. लोकेश और मयंका को सरकारी अस्पताल ले जाया गया. जहां दोनों को मृत घोषित कर दिया गया.

पुलिस ने ऐसे पकड़े आरोपी

लड़की के परिजनों की शिकायत पर थाना कोतवाली में आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 34, 302, 354डी, 120बी और आर्म्स एक्ट 25-54-59 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था. घटना के बाद पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने के निर्देश दिए थे. पुलिस टीम ने घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले. साइबर तकनीक और गुप्त सूत्रों की मदद ली.

इसी के आधार पर 21 फरवरी 2021 को आरोपी प्रकाश और लक्की को पर्वतीय कॉलोनी से गिरफ्तार किया गया. जबकि भव्य और कर्ण को एनआईटी-3 से गिरफ्तार कर लिया गया. आरोपियों के कब्जे से वारदात में इस्तेमाल की गई दोनों स्कूटी बरामद कर ली गई हैं.

आरोपी प्रकाश उर्फ प्रिंस उर्फ पीके पुत्र अशोक, लक्की उर्फ नोनू पुत्र पृथ्वी, भव्य उर्फ मुन्नू पुत्र राजकुमार तीनों ही एनआईटी-3 के रहने वाले हैं. जबकि हथियार लाने वाला आरोपी कर्ण पुत्र हरीश मेरठ का रहने वाला है. आरोपियों को पुलिस ने अदालत में पेश किया. जहां से मुख्य आरोपी प्रकाश को 3 दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेजा गया है. पुलिस उसकी निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल की गई पिस्टल बरामद करेगी.

Advertisement