नवरात्रों से पहले माता वैष्णो देवी के भक्तों के लिए खुशखबरी! अब इतने भक्तों को अनुमति

जम्मू। नवरात्रों को देखते हुए जम्मू-कश्मीर प्रशासन की तरफ से माता वैष्णो देवी की यात्रा को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है। अब प्रतिदिन आने वाले भक्तों की गिनती को सात हजार कर दिया गया है। इससे पहले पांच हजार भक्तों को ही यहां आने की इजाजत थी। इस फैसले से बाहर से दर्शन के लिए आने वाले भक्तों को फायदा होगा। इससे पहले एक हजार बाहरी यात्री और चार हजार स्थानीय श्रद्धालुओं को ही अनुमति थी। यह नियम भी खत्म कर दिया गया है।

बोर्ड की तरफ से इन सात हजार में स्थानीय भक्तों के लिए गिनती को सीमित नहीं किया जा रहा है। कोई भी भक्त सात हजार के बीच में दर्शन के लिए जा सकता है। इसके अलावा लखनपुर में भक्तों के लिए रोक को खत्म कर दिया गया है। जिससे की भक्तों को माता के दरबार में आने के लिए किसी प्रकार की दिक्कत ना आ सके। बाकी श्राइन बोर्ड को अपने हिसाब से आगे काम करने के लिए कहा गया है।

माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाने वाले भक्तों के लिए एक और बड़ी खुशखबरी है। भारतीय रेलवे ने दिल्ली से माता वैष्णो देवी कटड़ा के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को फिर से शुरू करने का निर्णय लिया है। इस ट्रेन का संचालन 15 अक्टूबर से शुरू हो जाएगा। यानी दो दिन बाद से एक बार फिर भक्त वैष्णो देवी के दर्शन कर सकेंगे। रेलवे के मुताबिक, माता वैष्णो देवी कटड़ा-नई दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन 15 अक्टूबर से शुरू होगी। ट्रेन का संचालन मंगलवार को छोड़कर हफ्ते में 6 दिन होगा।

माता वैष्णो देवी कटड़ा-नई दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन सुबह 6 बजे नई दिल्ली से रवाना होगी, जो दोपहर 2 बजे श्री माता वैष्णो देवी कटड़ा स्टेशन पहुंचेगी। वापसी में ये ट्रेन शाम 3 बजे चलेगी और रात 11 बजे नई दिल्ली पहुंचेगी। इसी बीच यह ट्रेन अम्बाला कैंट जंक्शन, लुधियाना जंक्शन और जम्मू तवी स्टेशनों से होकर गुजरेगी।

जानकारी के अनुसार कुछ दिनों में नवरात्रे शुरु होने वाले है। इस दौरान माता के दरबार में भक्तों की काफी भीड़ होती है। ऐसे में प्रदेश प्रशासन की तरफ से नई एसओपी के तहत भक्तों की गिनती को सात हजार कर दिया गया है। बोर्ड को कहा गया कि वह आगे अपने हिसाब से यात्रा पर फैसला लें। शुक्रवार शाम तक बोर्ड की तरफ से फैसला ले लिया जाएगा।

बोर्ड के सूत्रों का कहना है कि अब यात्रा को सभी के लिए खोल दिया जाएगा। बाहरी प्रदेश तथा प्रदेश का कोई भी भक्त दर्शन के लिए आ सकता है। इससे बाहर से आने वाले भक्तों को फायदा होगा। पहले बाहरी तथा प्रदेश के भक्तों के लिए प्रतिदिन की गिनती को सीमित रखा गया था। इससे पहले गिनती को पांच हजार रखा गया था। जिसमें बाहरी राज्यों के एक हजार तथा स्थानीय चार हजार शामिल थे। इसके अलावा दर्शन करने के लिए आने वाले भक्तो को कोरोना टेस्ट करवाने के 48 घंटों के अंदर आना पड़ता था। अब इस समय को भी बढ़ाया जा रहा है। क्योंकि नवरात्रों में काफी दूर दूर से भक्त दर्शन के लिए आते हैं।

लखनपुर में सड़क मार्ग से आने वाले भक्तों को रोका जाता था। अब ऐसा नहीं होगा। नवरात्रों में भक्तों को आने दिया जाएगा। इसी तरह से कटड़ा में दो ट्रेन नवरात्रों में शुरु हो जाएगी। वंदे मातरम तथा शिव शक्ति ट्रेन भक्तों को लेकर सीधे कटड़ा में आएगी जोकि कोरोना के कारण बंद की गई थी। घोड़े तथा पिठठू वालों को यात्रा मार्ग पर काम करने की अनुमति दे दी जाएगी।

Advertisement