अम्बाला मे बारात में विवाद: मिलनी में चाचा को छोटा कंबल मिला तो बिना दुल्हन के लोटा डेंटल सर्जन

बैंड, बाजा और बारात लेकर पिंजौर से अम्बाला कैंट पहुंचे डेंटल सर्जन को मिलनी रस्म पर हुए विवाद के बाद बिना दुल्हन लौटना पड़ा। बताया जा रहा है कि कंबल की वजह से बात बिगड़ी। लड़की वालों ने जो कंबल दूल्हे के रिश्तेदारों की मिलनी के लिए रखे थे, वे पसंद नहीं आए।

दूल्हे के चाचा की मिलनी छोटे कंबल के साथ करा दी तो विवाद हो गया। इसके बाद फेरों के बजाय दोनों पक्ष मंगलवार रात थाने पहुंच गए। समझौता बुधवार सुबह हुआ। लड़के वाले लड़की वालों के शादी की तैयारियों पर हुए खर्च की एवज में 4.50 लाख रुपए चुकाने पर राजी हुए।

कैंट थाना प्रभारी विजय कुमार ने बताया कि दुल्हन पक्ष की ओर से शिकायत आई थी, जिसके बाद दोनों पक्षों को थाने में बुलाया गया। बाद में दोनों पक्षों में आपसी बातचीत के बाद समझौता हो चुका है। दूल्हा बिना दुल्हन के लौट गया है, इसलिए मुकदमा दर्ज करने की कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

परिजन बोले- मिलनी पर बवाल कर दिया तो ससुराल में बेटी के साथ न जाने क्या होता

शिमला में डेंटल सर्जन (बीडीएस) का रिश्ता अम्बाला कैंट में बीडी फ्लोर मिल के पीछे कॉलोनी में ग्रेजुएट युवती से हुआ था। शगुन पैलेस में शादी के इंतजाम थे। मंगलवार रात करीब 9 बजे बारात आई। लड़की वालों ने स्वागत किया। बाराती जहां पैलेस में खाने का आनंद ले रहे थे, वहीं वर-वधू पक्ष में मिलनी की रस्म हो रही थी।

जब दूल्हे के चाचा की मिलनी छोटे कंबल के साथ कराई तो विवाद हो गया। दूल्हे के परिजनों ने कहा कि उन्होंने मिलनी के मामले में पहले ही बता दिया था फिर भी उनके मुताबिक मिलनी नहीं की गई। इसी बात पर दोनों पक्षों में तकरार हुई और बात बिगड़ गई।

रात साढ़े 11 बजे हाउसिंग बोर्ड चौकी में मामला पहुंच गया। यहां दुल्हन पक्ष के लोगों ने दूल्हे पक्ष पर कई तरह के आरोप लगाए। रात को ही बारात को पिंजाैर लौटा दिया गया, लेकिन दूल्हा व उसके परिजन अम्बाला में रुके रहे। बुधवार को समाज के लोगों ने समझौते का प्रयास किया।

पुलिस के सामने दूल्हे ने शादी से इनकार नहीं किया, लेकिन लड़की वालों का कहना था कि जब मिलनी को लेकर इतनी बड़ी बात हो सकती है तो ससुराल में जाने के बाद उनकी बेटी के साथ न जाने क्या होगा।

Advertisement