मात्र दो घंटे में पहुंच जाएंगे दिल्ली से देहरादून, बनाया जाएगा देश का सबसे लंबा एलिवेटेड कॉरिडोर

नई दिल्लीः अब दिल्ली से देहरादून की दूरी 6 घंटे के बजाय 2 घंटे रह जाएगी. दिल्ली से देहरादून के बीच 210 किलोमीटर का हाईवे तैयार किया जाएगा. ये देश का पहला हाईवे होगा जहां वन्य जीवो को रास्ता देने के लिए 12 किलोमीटर लंबा एलिवेटेड कॉरिडोर बनाया जाएगा. ये कॉरिडोर वन्य जीवों को सुरक्षित रास्ता उपलब्ध करवाएगा और आम आवाजाही भी सुगम बनी रहेगी.

अक्षरधाम से देहरादून की लंबाई 210 किमी तक की पूरी लंबाई को लागू करने के लिए 4 खंडों में विभाजित किया गया है. पहला फ़ेज़- अक्षरधाम से EPE जंक्शन 31 किमी, इसे 6 लेन में विकसित किया जा रहा, ये हिस्सा अक्षरधाम मंदिर से शुरू होगा और गीता कॉलोनी, खजूरी खास, मंडोला, आदि से होकर गुजरेगा.

दूसरा फ़ेज़- ईपीई जंक्शन से सहारनपुर बाईपास 118 किमी, ये हिस्सा भी 6 लेन का बनाया जा रहा है और पूरी लंबाई बागपत, शामली, मुजफ्फरनगर और सहारनपुर जिलों से गुजर रही है.

तीसरा फ़ेज़- सहारनपुर बाईपास से गणेशपुर 41 किलोमीटर, ये हिस्सा सहारनपुर बाईपास से शुरू होती है और गणेशपुर पर समाप्त होती है. न्यूनतम 100 किमी प्रति घंटे की गति को प्राप्त करने के लिए आवश्यक अंडरपास और सर्विस रोड की योजना बनाई जा रही है.

चौथा फ़ेज़- गणेशपुर से देहरादून 20 किमी लम्बाई है, ये हिस्सा 6 लेन का होगा. यह खंड मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड राज्य में आरक्षित वन से होकर गुजरता है.

20 किमी में से, 5 किमी का विस्तार ब्राउनफ़ील्ड है, और 15 किमी की ऊंचाई वन्य जीवन कॉरिडोर तक़रीबन 12 किमी और इसमें वन्य जीवों के लिए सुगम मार्ग उपलब्ध कराने के लिए एक सुरंग जो 340 मीटर लम्बी होगी का भी निर्माण होगा.

इस योजना के लिए ज़रूरी फॉरेस्ट एंड वाइल्डलाइफ क्लीयरेंस मिल चुका है. प्रोजेक्ट की कुल पूंजी लागत 12300 करोड़ है पूरे कॉरिडोर को न्यूनतम 100 किमी प्रति घंटे की गति के लिए डिजाइन किया गया है. हाईवे बनने के बाद यात्रा का समय 2 घंटा रह जाएगा. वर्तमान में 6 घंटा समय लगता है. वर्तमान में दूरी 235 किमी है जो घटकर 210 किमी रह जाएगी.

Advertisement