बेटी कर रही थी मां का अंतिम संस्कार कि अस्पताल में भर्ती पिता की भी हो गई मौत, बेटियों को अग्नि देते देख हर आंख नम

बरेली। कोरोना महामारी के दौर में मौत का मंजर देखा नहीं जा रहा। मंगलवार को अलवर शहर के तीजकी श्मशान घाट पर एक बेटी अपनी मां की चिता को अग्नि दे रही थी। तभी रूह कंपा देने वाली सूचना मिली कि पिता की भी मौत हो गई। बेटियों को मां-पिता को अग्नि देते देखा तो सबकी आंख भर आई। माता पिता की काफी समय से तबीयत खराब चल रही थी। वह बरेली में रहते थे।

घर में कोई ध्यान रखने वाला न था तो बेटियों ने उन्हें अलवर ले जाकर एक अस्पताल में भर्ती कराया। वहां उनका इलाज चल रहा था। कोरोना के चलते मां की मौत हो गई। मौके पर भाई के न होने पर बेटी ने ही मां को मुखाग्नि दी। बेटी चिता को मुखाग्नि दे ही रही थी कि खबर मिली कि अस्पताल में इलाजरत पिता की भी मौत हो गई है।

Daughters lit fire | बरेली के बूढ़े मां-बाप को अलवर के श्मशान में बेटियों  ने मुखाग्नि दी, अमेरिका से नहीं आ सका बेटा - Dainik Bhaskar

मौत भी कहां से कहां ले आई

बरेली निवासी राजेन्द्र कुमार कई दिन पहले से अलवर के निजी अस्पताल में भर्ती थे। उन्हें लीवर की बीमारी थी। उसी बीच उनकी 70 वर्षीय पत्नी सुमन की भी तबीयत बिगड़ गई। जिनकी दो बेटियां हैं। वो कहीं दूर रहती थी। उन्होंने ही मां-पिता को अलवर के अस्पताल में भर्ती कराया। कई दिन से यहां इलाज चल रहा था। बेटियां ही देखरेख में लगी थी। मंगलवार दोपहर करीब 1 बजे मां की मौत हो गई।

दोपहर करीब दो बजे जब बेटी सगुन अपनी मां की चिता को मुखाग्नि दे रही थी। उसी समय अस्पताल से उनके पास फोन आ गया कि पिता का भी निधन हो गया है। बेटी के कांपते हाथों ने मां का अंतिम संस्कार किया। पिता को दूसरी बेटी ने मुखाग्नि दी। यह दृश्य देखकर श्मशान घाट पर कोरोना के मृतकों का अंतिम संस्कार कराने वाली नगर परिषद की टीम के सदस्यों की भी आंखें नम हो गई।

अमेरिका से नहीं आ सका बेटा

मृतक दंपती का बेटा अमेरिका में नौकरी करता है। कोरोना के चलते वह माता-पिता के बीमार होने पर भी नहीं आ सका।बेटियों ने ही माता-पिता को संभाला। अस्पताल में भर्ती कराया। इस बीच मंगलवार को दोनों की मौत हो गई। इतने बड़े हादसे में भी बेटियों ने हिम्मत दिखाते हुए अंतिम फर्ज पूरा किया।

Advertisement