हरियाणा के इन चार जिलों में लग सकता है कर्फ्यू, अनिल विज बोले- जरूरी हुआ कदम

Advertisement

------------- Advertisement -----------

चंडीगढ़ । हरियाणा सरकार दिल्‍ली से सटे राज्‍य के चार जिलों में कर्फ्यू लगाने की तैयारी में है। सरकार गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत और झज्‍जर में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए यह कदम उठा सकती है। राज्‍य के गृह और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज ने इसके साफ संकेत दिए हैं।

फरीदाबाद, गुरुग्राम, झज्जर और सोनीपत जिलों में कोरोना वायरस से 200 लोगों की मौत हो चुकी है

Advertisement

दरअसल, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के चार जिलों फरीदाबाद, गुरुग्राम, झज्जर और सोनीपत में कोरोना का कहर रोकना सरकार के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। प्रदेश सरकार ने हालांकि इन चार जिलों में खास फोकस करते हुए यहां अस्पतालों में न केवल बेड बढ़ा दिए हैं, बल्कि खास सख्ती बरतने का भी निर्णय लिया है। इसके बावजूद गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को लगता है कि इन चारों जिलों में कर्फ्यू लगाए बिना कोरोना को काबू कर पाना चुनौती भरा काम है।

हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज सरकार के अंदरूनी प्लेटफार्म पर इस बात को कई बार रख चुके हैं कि एनसीआर से सटे प्रदेश के इन चारों जिलों में कर्फ्यू लगा दिया जाए, क्योंकि दिल्ली के कारण हरियाणा के इन चारों जिलों में कोरोना फैल रहा है। उनका कहना है कि दिल्ली से आने और जाने वाले हर व्यक्ति की टेस्टिंग संभव नहीं है। इसलिए इन जिलों में कोरोना संक्रमण रोकने का एक जरिया सिर्फ कफ्र्यू ही है।

हरियाणा में अभी तक कोरोना संक्रमण के 21 हजार 240 केस आए हैं। इनमें अकेले गुरुग्राम, फरीदाबाद व सोनीपत में 14 हजार केस हैं, जो सबसे ज्यादा हैं। फिलहाल भी सबसे ज्यादा एक्टिव 1026 केस गुरुग्राम में, 932 केस फरीदाबाद, 700 केस सोनीपत और 156 केस झज्जर जिले में हैं। प्रदेश में कोरोना की वजह से 300 लोग मारे गए हैं। इनमें 200 लोग अकेले गुरुग्राम और फरीदाबाद जिलों के हैं।

एनसीआर से सटे इन चारों जिलों की इस स्थिति को देखकर अनिल विज ने कर्फ्यू की पेशकश की है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि कई मंत्री और अधिकारी कर्फ्यू लगाने के हक में नहीं हैं, क्योंकि इससे उन्हें लगता है कि सबसे ज्यादा औद्योगिक गतिविधियां एनसीआर के इन चारों जिलों में होती हैं। इस कारण कामकाज प्रभावित हो सकता है, लेकिन अनिल विज की दलील है कि यदि लोग स्वस्थ होंगे तो वह कामकाज कर सकने की स्थिति में रह सकेंगे।

Advertisement