धर्मनगरी में ग्रहण को लेकर लगा इतने दिन का कर्फ्यू, गृहमंत्री ने दिया आदेश

चंडीगढ़ : हरियाणा के गृह, निकाय, स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि 21 जून को लगने वाले सूर्य ग्रहण के मध्यनजर 20-21-22 जून को कुरुक्षेत्र जिले में कर्फ्यू लगाने के आदेश उन्होंने जारी किए हैं। विज ने कहा कि सूर्यग्रहण पर पवित्र सरोवर में भीड़ लगने की संभावना व वहां स्नान करने वालों का तांता लग सकता है। कोरोना के चलते आम जन मानस के जीवन को सुरक्षित रखने के लिए 3 दिन वहां कफ्र्यू रहेगा। कोरोना के चलते एक भी कोरोना पॉजिटिव सूर्य ग्रहण पर सरोवर में स्नान कर कईयों को संक्रमित करने की आशंका के चलते यह कदम उठाया गया है।

कुरुक्षेत्र में मान्यताओं के अनुसार कई हजार लोग सूर्य ग्रहण पर स्नान करने के लिए एक दिन पहले ही पहुंच जातें हैं, ताकि सुबह प्रभात वेला से स्नान सर्व प्रथम किया जा सके। देश भर से दूर दराज से धार्मिक मान्यताओं के तहत लोगों का हुजूम कुरुक्षेत्र पहुंचने की प्रथा है। सुरक्षा के दृष्टिगत यह प्रभावी कदम उठाए गए हैं।

सूर्यग्रहण वलयाकार नजर आएगा

भारत में 21 जून को सूर्यग्रहण दिखेगा और देश के कुछ हिस्सों में यह वलयाकार नजर आएगा। खगोल प्रेमियों को इस दौरान ‘अग्नि-वलय देखने का अवसर मिलेगा। हालांकि, देश के अधिकतर हिस्सों में सूर्यग्रहण आंशिक होगा। राजस्थान के घड़साना के पास सुबह लगभग 10 बजकर 12 मिनट पर सूर्यग्रहण की वलयाकार गति शुरू होगी और पूर्वाह्न लगभग 11 बजकर 49 मिनट पर वलयाकार चरण शुरू होगा तथा पूर्वाह्न 11 बजकर 50 मिनट पर यह चरण समाप्त होगा।

राजस्थान के सूरतगढ़ और अनूपगढ़, हरियाणा के सिरसा, रतिया, और कुरुक्षेत्र तथा उत्तराखंड के देहरादून, चंबा, चमोली और जोशीमठ जैसे क्षेत्रों से ‘अग्नि-वलय एक मिनट तक दिखेगा। हालांकि इस बार का ‘अग्नि-वलय उस तरह का नहीं होगा जैसा यह पिछले साल 26 दिसंबर को दिखा था। इस बार यह थोड़ा हल्का होगा। वलयाकार सूर्यग्रहण तब होता है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीध में आ जाते हैं। लेकिन देश के अधिकतर हिस्सों में आंशिक सूर्यग्रहण दिखेगा।

कोलकाता में आंशिक सूर्यग्रहण की शुरुआत 10:46 बजे होगी और इसका समापन अपराह्न 2:17 बजे होगा। हालांकि दिल्ली में यह पूर्वाह्न 10:20 बजे से अपराह्न 1:48 बजे तक, मुंबई में सुबह 10 बजे से अपराह्न 1:27 बजे तक, चेन्नई में पूर्वाह्न 10:22 बजे से अपराह्न 1:41 बजे तक और बेंगलुरु में पूर्वाह्न 10:13 बजे से अपराह्न 1:31 बजे तक दिखेगा।

आगामी 21 जून को वलयाकार सूर्यग्रहण सबसे पहले अफ्रीका के कांगो से शुरू होगा और फिर भारत के राजस्थान में करने प्रवेश से पहले यह दक्षिणी सूडान, इथियोपिया, यमन, ओमान, सहदी अरब, हिंद महासागर और पाकिस्तान से होकर गुजरेगा। इसके बाद यह तिब्बत, चीन, ताइवान की ओर बढ़ेगा और फिर प्रशांत महासागर के मध्य में समाप्त हो जाएगा।

Advertisement