लॉकडाउन : होटल, रेस्तरां कारोबारियों की बढ़ी चिंता

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को देखते हुए दुनियाभर के कई देशों में मार्च के दूसरे सप्ताह से लॉकडाउन लागू किया गया है। लॉकडाउन लागू होने की वजह से रेस्तरां, पब समेत सभी खान-पान की सुविधाएं बंद हैं। लॉकडाउन लागू हुए करीब दो महीने हो चुके हैं और मालिकों के बीच इस बात को लेकर अनिश्चितिता है कि क्या जब वे अपने आउटलेट को फिर से खोलेंगे तो उनका व्यवसाय वैसा ही होगा जैसे पहले होता था।

इस खतरनाक वायरस के संक्रमण के खतरे ने सबसे ज्यादा होस्पीटैलिटी बिजनेस (अतिथि सत्कार व्यवसाय) को प्रभावित किया है। होटल, रेस्तरां और खान-पान वाली जगहों पर लोगों की भारी भीड़ जुटती है और यहां वायरस के संपर्क में आने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। नेशनल रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) के अध्यक्ष और डीगस्टीबस के सीईओ अनुराग कत्रियार ने कहा कि समस्या दो स्तरों पर है। आप रेस्तरां में सामाजिक दूरी के नियमों का पालन कैसे करेंगे, जहां टेबल के बीच एक से दो मीटर की दूरी बनाना मुश्किल होगा। उन्होंने कहा कि आप लोगों को कैसे समझाएंगे कि उन्हें जो खाना परोसा जाएगा वह सुरक्षित है।

एनआरएआई के अध्यक्ष ने कहा कि नाइट क्लबों, बार और भोज का कारोबार विशेष रूप से प्रभावित होंगे, क्योंकि ये बड़ी भीड़ पर निर्भर करते हैं। कोरोना वायरस रेस्तरां जैसे बंद स्थानों पर तेजी से फैलता है। ऐसा ही एक उदाहरण चीन के ग्वांगझु में सामने आया, जहां नौ लोग कोरोना से संक्रमित हो गए क्योंकि उनके साथ भोजन कर रहा एक व्यक्ति कोविड-19 पॉजिटिव था।

Hotel in Itu - Novotel Itu Golf & Resort - ALL

यहां गौर करने वाली बात है कि इस दौरान वहां मौजूद दर्जनों अन्य लोगों को यह बीमारी नहीं हुई। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि संक्रमण केवल उन लोगों के बीच फैला जो संक्रमित व्यक्ति के साथ एयर कंडीनशर वाले एक कमरे में बैठे थे। न्यूयॉर्क, कनेक्टिकट और अटलांटा में कम से कम तीन अमेरिकी प्रांतीय अधिकारियों ने रेस्तरां का विस्तार सड़कों पर करने का संकेत दिया। इससे सामाजिक दूरी का पालन किया जा सकेगा। साथ ही पैदल यात्रियों और साइकिल चालकों के लिए ज्यादा जगह होगी और ऐसी सड़कें वाहनों के लिए बंद हो जाएंगी।

कत्रियार ने कहा कि मुझे लगता है कि वर्तमान में रेस्तरां के लिए ऐसा विकल्प एक अच्छा तरीका है, लेकिन मुंबई जैसे भीड़भाड़ वाले शहरों में यह मुश्किल होगा।

Advertisement