नागरिक अस्पताल के बाथरूम में महिला ने दिया बच्चे को जन्म

सोनीपत- जिले का का सिविल अस्पताल एक बार फिर सुर्खियों में है, क्योंकि यहां गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी की बजाय रोहतक या खानपुर पीजीआई रेफर कर दिया जाता है. चाहे जच्चा बच्चा स्वथ्य ही क्यो ना हो. ऐसा ही मामला मंगलवार को सामने आया, जहां एक महिला की डिलवरी नहीं करवाई गई और महिला ने बच्चे को बाथरूम (Bathroom) में ही जन्म दे दिया. महिला को ये कहा गया कि उसका ऑपरेशन होगा और उसे रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया.

जानकारी के अनुसार पहले अस्पताल स्टाफ ने राई की रहने वाली शकुंतला की डिलवरी नहीं करवाई जिसके बाद महिला ने बच्चे को बाथरूम में ही जन्म दे दिया. इससे पहले महिला को ये कहकर रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया कि यहां आप्रेशन की सुविधा नहीं है. शकुंतला देवी ने बताया कि उसके लगातार तेज दर्द होती रही, लेकिन डॉक्टर उसको इंतजार के लिए कहते रहे. उसने बताया कि इसी दौरान वह बाथरूम में चली गई.

उसने बताया कि बाथरूम में ही उसके बच्चे ने जन्म ले लिया. उसकी स्थिति काफी नाजुक है. पहले उसने स्वयं अपने हाथ से बच्चे को संभाला और शोर मचाने के बाद उसकी सास उसके पास आईं. जिन्होंने बच्चा संभालने में उसकी मदद की. इस हालत में ही वह बाथरूम से डॉक्टर के कमरे तक गई, जिसके बाद नर्स और डॉक्टरों ने उसको व उसके बच्चे को संभाला.

अस्पताल पर आऱोप

आरोप है कि सोनीपत प्रसूति विभाग हर बार आपने अनोखे कारनामो के लिए प्रसिद्ध है. यहां गर्भवती महिला की डिलीवरी ये कह कर टाल दी जाती है कि यहां सुविधा नहीं है, या कोई बहाना बनाकर रोहतक या खानपुर पीजीआई रेफर कर दिया जाता है.

अस्पताल के पीएमओ ने कही ये बात

इस मामले पर जब सोनीपत सिविल अस्पताल के पीएमओ डॉक्टर आदर्श शर्मा ने बताया कि ये मामला उनके संज्ञान में नही है. अगर कोई ऐसा मामला है तो मामले की जानकारी जुटा कर दोषी अधिकारी पर कार्रवाई की जाएगी.

Advertisement