चिकन- अंडे खाने वाले हो जाएं सावधान, हरियाणा सरकार ने जारी किया अलर्ट

चंडीगढ़। हरियाणा में बर्ड फ्लू के खतरे के मद्देनजर राज्‍य सरकार ने एडवाजरी जारी की है। पंचकूला में चार लाख से अधिक मुर्गियों की मौत के बाद हरियाणा सरकार अलर्ट हो गई है। पशुपालन एवं डेयरी विभाग ने एडवाइजरी जारी की है कि कच्चे अंडे या मांस का सेवन खतरनाक हो सकता है। विभाग ने कहा कि पोल्ट्री उत्पादों को अच्छे से पकाकर ही खाएं।

बर्ड फ्लू होने पर आपको कफ, डायरिया, बुखार, सांस से जुड़ी दिक्कत, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश, नाक बहना और बेचैनी जैसी समस्या हो सकती है। अगर आपको लगता है कि आप बर्ड फ्लू की चपेट में आ गए हैं तो किसी और के संपर्क में आने से पहले डॉक्टर को दिखाएं।

H5N1 प्राकृतिक रूप से पक्षियों में होता है लेकिन ये पालतू मुर्गियों में आसानी से फैल जाता है। ये बीमारी संक्रमित पक्षी के मल, नाक के स्राव, मुंह के लार या आंखों से निकलने वाली पानी के संपर्क में आने से होता है। संक्रमित मुर्गियों के 165ºF पर पकाए गए मांस या अंडे के सेवन से बर्ड फ्लू नहीं फैलता है लेकिन संक्रमित मुर्गी के अंडों को कच्चा या उबालकर नहीं खाना चाहिए।

बता दें पिछले 10 दिनों में पंचकूला जिले के बरवाला क्षेत्र में गांव गढ़ी कुटाह और गांव जलोली के पास 20 पोल्ट्री फार्मों में चार लाख दस हजार मुर्गियों की मौत हुई है। यहां से नमूने लेकर क्षेत्रीय रोग निदान प्रयोगशाला (आरडीडीएल) जालंधर भेजे गए हैं जहां से रिपोर्ट का अभी इंतजार है। आरडीडीएल की टीम भी मुर्गियों के नमूने के लिए बरवाला क्षेत्र में पहुंच गई है। अभी तक एवियन इन्फ्लुएंजा (बर्ड फ्लू) की कोई पुष्टि नहीं हुई है। आशंका जताई गई है कि संदिग्ध बीमारियां रानीखेत या संक्रामक लारेंजो-ट्रैक्टिस भी हो सकती हैं।

पशुपालन एवं डेयरी विभाग ने सलाह दी है कि रोग मुक्त क्षेत्रों में पोल्ट्री और पोल्ट्री उत्पादों को सही तरीके से पकाकर खाया जा सकता है। खाना पकाने के लिए उपयोग किए जाने वाला सामान्य तापमान (भोजन के सभी भागों के लिए 70 डिग्री सेल्सियस) वायरस को मार सकता है। पोल्ट्री का उपभोग करने से पहले सुनिश्चित कर लिया जाए कि पोल्ट्री या अंडे के सभी भाग पूरी तरह से पके हुए हैं या नहीं।

कच्चे पोल्ट्री और पोल्ट्री उत्पादों को कभी भी कच्चे खाये जाने वाले पदार्थों के साथ मिलाकर नहीं खाना चाहिए। खाद्य पदार्थों को तैयार करने में शामिल व्यक्तियों को पोल्ट्री या कच्चे पोल्ट्री उत्पादों को रखने या इधर-उधर करने पर अपने हाथों को साबुन और गर्म पानी से अच्छी तरह से धोना चाहिए। पोल्ट्री उत्पादों के संपर्क में आने वाली सतहों को साफ और कीटाणुरहित करना चाहिए।

Advertisement