राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूलों को सीबीएसई से मान्यता लेने के लिए पूरी करनी होंगी ये शर्त

पानीपत । केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से संबद्धता लेने से पहले 136 राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूलों को चार प्रमाण पत्र लेने होंगे। ये चारों अगल-अलग विभाग से हैं। प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के बाद ही केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अधीन इन स्कूलों में सीबीएसई सिलेबस से पढ़ाई होगी। मॉडल संस्कृति स्कूलों की शैक्षणिक गुणवत्ता बढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग ने यह कदम उठाया है।

हरियाणा के 22 जिलों में 23 राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूल पहले से संचालित किए जा रहे हैं। मनोहर सरकार ने प्रदेश के 113 राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों का दर्जा बढ़ा कर उसे मॉडल संस्कृति का दर्जा दिया है। इन स्कूलों को अब सीबीएसई के अधीन लाया जाएगा। इससे पहले सीबीएसई की वेबसाइट पर जाकर विद्यालय का ऑनलाइन पंजीकरण कराएंगे।

पंजीकरण से पहले ये चार प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से हासिल करने होंगे। स्कूल के इंचार्ज पीडब्ल्यूडी डिपार्टमेंट से स्ट्रक्चर सेफ्टी, फायर से फायर सेफ्टी, हेल्थ से सेनेटरी कंडीशन और पब्लिक हेल्थ से सुरक्षित पेयजल की उपलब्धता के बारे में प्रमाण पत्र लेंगे। इन प्रमाण पत्रों में किसी तरह की कमी नहीं होनी चाहिए। प्रमाण पत्रों को प्राप्त करने में किसी तरह की परेशानी आने पर अपने जिले के डीसी से सहायता ले सकते हैं।

एक-एक लाख रुपये भेजा

विद्यालय शिक्षा निदेशालय से सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को जारी पत्र में कहा गया है कि सीबीएसई से संबद्धता लेने से पहले ये चार प्रमाण पत्र हासिल करने में विद्यालय में कोई कमी है तो उसे जल्द पूरा करा लिया जाए। इसके लिए इन 136 स्कूलों को एक-एक लाख रुपये दिया गया है। पत्र में यह भी कहा गया कि सीबीएसई से संबद्धता के लिए कोई शुल्क देना होगा तो इसी राशि में से करेंगे।

वीडियो कान्फ्रेंसिंग 22 को

पानीपत के डीईओ रमेश कुमार ने बताया कि सीबीएसई से इन राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूलों की संबद्धता को लेकर शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव व निदेशक 22 सितंबर को इन स्कूलों के प्रधानाचार्यों की वीडियो कोंफ्रेंसिंग में बैठक लेंगे। इस बैठक से पहले प्रमाण पत्र हासिल करने के निर्देश दिए गए हैं।

Advertisement