बॉक्सिंग टीम के साथ जाने वाले डॉक्टर पर केस दर्ज, जानिए पूरा मामला

रोहतक : रोहतक पीजीआई के आर्थो डिपार्टमेंट में कार्यरत पीजी चिकित्सक पर एक समय में दो अलग संस्थानों में काम करके पैसा लेने का आरोप लगा है। पी जी आई मे  कई माह तक चली जांच के बाद पीजीआई थाना के एसएचओ ने आरोपी डॉ. के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।आरोप है कि पीजी आई में डॉक्टर रहते वर्ष 2018 से 2020 तक नेशनल बॉक्सिंग एकेडमी रोहतक में बतौर विजिटिंग फैकल्टी सेवाएं दीं।

जूनियर बोक्सरों के साथ एकेडमी के खर्चे पर बतौर चिकित्सक तीन से चार बार विदेश यात्राएं की। वहां पर 25 यूएस डॉलर प्रतिदिन का मेहनताना भी लिया। चार बार की विदेश यात्राओं के दौरान आरोपी डॉ. ने डिपार्टमेंट और मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर से अनुमति नहीं ली। हैरत की बात यह है कि आरोपी डॉ. की विदेश यात्रा के दौरान आर्थो डिपार्टमेंट के दस्तावेजों में उपस्थित दिखाया गया।

पूरे प्रकरण का खुलासा हुआ तो हेल्थ यूनिवर्सिटी और पीजीआई डायरेक्टर ने जांच बिठा दी। जांच करने का जिम्मा डीएमएस डॉ. संदीप के पास रहा। जांच अधिकारी ने आरोपी डॉ. द्वारा दो संस्थानों से सैलरी लेने, बिना अनुमति विदेश यात्रा करने सहित अन्य कई अनियमितताओं का दोषी मानते हुए रिपोर्ट तैयार कर अधिकारियों को दी थी, जिस पर केस दर्ज करवाया गया।

गौरतलब है कि सूत्रों के अनुसार स्पोर्ट्स अथॉरिटी आफ इंडिया की ओर से रोहतक में संचालित की जा रही नेशनल बॉक्सिंग एकेडमी के अधिकारियों ने जांच अधिकारी को बताया कि बॉक्सिंग एकेडमी में आरोपी डॉ गौरव ने बतौर विजिटिंग फैकल्टी सेवाएं दी है। प्रतिदिन तीन घंटे की ड्यूटी देने के एवज में उसे प्रतिमाह 50 हजार रुपए का भुगतान किए जा रहा था। उन्हें नहीं बताया गया था कि वे पीजीआई में भी काम करते हैं।

वहीं, डॉ. पर केस दर्ज होने के बाद ऑर्थो विभाग के  स्टाफ में भी हड़कंप है। डॉ. संदीप ने अपनी जांच रिपोर्ट में विभाग के अन्य कई अधिकारियों की संलिप्तता की बात कही है  वही रोहतक पुलिस ने पी जी आई की शिकायत पर आरोपी डॉ के खिलाफ विभिन धाराओं के तहत मामला दर्ज़ कर लिया है और जांच जारी है जल्द ही आरोपी डॉ की गिरफ़्तारी होगी

Advertisement