राष्ट्रीय कृमि मुक्ति द्वारा बच्चों को बांटी गई गोलियां

करनाल 28 जनवरी, अतिरिक्त उपायुक्त अनिश यादव ने राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस 10 फरवरी को सफल बनाने के लिए जिला किशोर स्वास्थ्य समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस कार्यक्रम का ज्यादा से ज्यादा प्रचार करें और बच्चों तथा अभिभावकों को बताएं कि एल्बेंडाजोल गोली का कोई दुष्प्रभाव नही पड़ता है। बच्चो के स्वस्थ रहने के लिए यह गोली आवश्यक है, इसके सेवन से पेट में होने वाले कृमि नष्टा हो जाते हैं। एक से 19 वर्ष की आयु के सभी किशोर एवं बच्चो को यह गोली खिलाना सुनिश्चित करें।

अतिरिक्त उपायुकत ने शिक्षा विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों से कहा कि वह अपने-अपने संस्थानों में इस कार्यक्रम के बारे में पहले से ही सूचना अवश्य भिजवांए ताकि 10 फरवरी के दिन सभी बच्चो को यह गोली खिलाई जा सके। उन्होंने अन्य विभागों के अधिकारियों को भी निर्देश दिए वे इस अभियान में पूरा सहयोग देकर इसको कामयाब बनाए तथा इस आयु के सभी बच्चों को यह दवाई अवश्य खिलाए ताकि भारत की भावी पीढ़ी को तन्दुरूस्त बनाया जा सके।

बैठक में सिविल सर्जन डॉ.अश्वनी आहुजा ने बताया कि अगामी 10 फरवरी को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस मनाया जाना है। इस दिन 1 से 19 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चो को एल्बेंडाजोल दवाई, आंगनवाड़ी केन्द्रों और स्कूलों में नि:शुल्क वितरित की जाएगी। इस कार्यक्रम को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी तैयारियों पूरी कर ली गई हैं।

इस अवसर पर उप सिविल सर्जन एवं इस कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डा0 नरेश करडवाल ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर 1 से 19 वर्ष के सभी बच्चों को तमाम सरकारी, गैर सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों व आंगनवाडी केन्द्रों के माध्यम से दिनांक 10 फरवरी 2020 को एल्बेंडाजोल टेबलेट खिलाई जाएगी। किसी कारणवश जो

बच्चे छुट जाएंगे उन सभी बच्चों को दिनांक 17 फरवरी 2020 (मोप अप डे) को एल्बेंडाजोल टेबलेट खिलाई जाएगी। इस प्रोग्राम के तहत एल्बेंडाजोल टेबलेट खिलाने के लिए करनाल जिले में लगभग 4,94,100 बच्चों को चिन्हित किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि बच्चों में खून की कमी का एक मुख्य कारण पेट में कृमि होना और उससे बच्चों के विकास में भी कमी आ सकती है। इसलिए आम जन से यह अपील की जाती है कि अपने घरों व आस पास के इलाके में साफ सफाई का ध्यान रखें, खाने-पीने की चीजों को ढ़क कर रखे, साफ पानी पीएं तथा खाना खाने से पहले व शौच जाने के बाद साबुन से हाथों को आवश्य साफ करें ताकि कृमि रोग से बचा जा सके।

इस अवसर पर जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी राजपाल, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी राजबीर खुंडिया, महिला बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी राजबाला, सीबीएससी स्कूल एसोसिएशन के जिला प्रधान राजन लाम्बा, उप सिविल सर्जन डॉ. राजेश गोरिया, डॉ. सरोज, डॉ.कैलाश, डॉ.नीलम, डॉ.मंजु पाठक, चिकित्सा अधिकारी डॉ अनु, डॉ. मंजीत, डॉ.संजीव तथा जिला किशोर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. तमन्ना नैन ने भी भाग लिया।

Advertisement