हरियाणा शिक्षा विभाग की तैयारी: बोर्ड परीक्षाएं ऑनलाइन या ऑफलाइन?

प्रदेश में सरकारी और निजी स्कूलों की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान आज हाेगा। परीक्षाएं ऑनलाइन हाेंगी या ऑफलाइन यह भी निर्णय होना है, क्योंकि फिलहाल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में करीब दो लाख विद्यार्थी ही पढ़ने आ रहे हैं। यह आंकड़ा 30 से 35 फीसदी के करीब है। सुबह 11 बजे शिक्षा विभाग के आला अफसर आज ऑनलाइन बैठक में इस विषय पर मंथन करेंगे।

इसके बाद प्रस्ताव बनाकर सरकार को मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। सूत्रों के अनुसार अप्रैल के अंत या फिर मई के प्रथम सप्ताह में हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की परीक्षाएं हो सकती हैं। बैठक में शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन, निदेशक एससीआरटी, शिक्षा बोर्ड के सचिव, निदेशक हरियाणा शिक्षा विभाग शिरकत करेंगे। ऑनलाइन होने वाली बैठक की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सीबीएससी की बोर्ड परीक्षाएं मई-जून में होंगी। कुछ इसी तर्ज पर हरियाणा बोर्ड भी निर्णय लेगा।

हरियाणा शिक्षा बोर्ड द्वारा नौंवी से 12वीं कक्षा तक सालाना एग्जाम और खासकर 10वीं और 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले करीब 13 लाख विद्यार्थियों को परीक्षा की तारीखों का इंतजार है। करीब 6.50 लाख विद्यार्थी सरकारी और इतने ही विद्यार्थी प्रदेश के निजी स्कूलों में पढ़ते हैं। यह सभी स्कूल हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड से संबंध हैं। जबकि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में कुल 22 लाख विद्यार्थियों ने एडमिशन लिया है, अबकी बार ही 1.46 लाख से अधिक विद्यार्थियों ने प्राइवेट स्कूल छोड़कर सरकारी स्कूलों का रूख किया है।

सवाल कैसे व कितने होंगे यह भी निर्णय

अबकी बार बोर्ड परीक्षाओं में विद्यार्थियों के लिए सवाल किस तरह के आएंगे यह निर्णय लिया जाएगा। इनमें कितने सब्जेक्टिव होंगे और कितने ऑबजेक्टिव होंगे यह निर्णय भी होगा। साथ ही नौंवी और 12वीं कक्षा की डेट सीट भी जारी होगी। यही नहीं प्रैक्टिकल परीक्षाएं किस तरह से ली जाएंगी, यह भी फैसला होना है।

अंतिम निर्णय सरकार लेगी

कोरोना के कारण फिलहाल प्रदेश में आठवीं से 12वीं कक्षा तक ही स्कूल खोले गए हैं। इनकी परीक्षाओं की तारीखों पर आखिरी मुहर सरकार की लगेगी। क्योंकि शिक्षा विभाग से पहले यह पता किया जा सकता है कि जो तारीख तय की गई हैं, क्या उनमें कोरोना जैसी दिक्कत तो नहीं रहेगी।

कोरोना के बावजूद पॉलिटेक्निक संस्थानों में 16% अधिक दाखिले हुए

कोविड के बावजूद राज्य के सरकारी एवं सरकारी सहायता प्राप्त पॉलिटेक्निक संस्थानों में किए गए कुल दाखिलों में 16 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई है। प्रदेश के 37 सरकारी और 4 सरकारी सहायता प्राप्त पॉलिटेक्निक संस्थानों में सत्र 2020-21 के दौरान लगभग 90 प्रतिशत दाखिले हुए हैं। सरकार इसे बड़ी उपलब्धि मान रही है। सरकार का कहना है कि सरकारी संस्थानों पर विश्वास बढ़ रहा है।

Advertisement