HomeNationalबड़ी खबर: कुलदीप बिश्नोई को कांग्रेस पार्टी ने किया सस्पेंड, राज्यसभा चुनाव...

बड़ी खबर: कुलदीप बिश्नोई को कांग्रेस पार्टी ने किया सस्पेंड, राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोट करने पर हुई कार्रवाई

हिसार। राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोट करने वाले कांग्रेस ने विधायक कुलदीप बिश्नोई को पार्टी से सस्पेंड कर दिया है। कुलदीप बिश्नोई को सीडब्ल्यूसी ( विशेष आमंत्रित ) की सदस्यता से भी हटा दिया जाएगा। विधानसभा से सदस्यता रद्द कराने के लिए अध्यक्ष को पत्र भी लिखा जाएगा।

बता दें हरियाणा में दो सीट को लेकर हुए राज्यसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार कृष्ण लाल पंवार और निर्दलीय कार्तिकेय शर्मा की जीत हुई है। जबकि कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन क्रॉस वोटिंग से हार गए। कांग्रेस का एक वोट रद्द हो गया। आरोप है कि कुलदीप बिश्नोई ने क्रास वोटिंग की।

वहीं कांग्रेस की हार के बाद विधायक कुलदीप बिश्नाेई के फिर से बागी तेवर दिखाई दिए। उन्हाेंने ट्वीट किया कि “फन कुचलने का हुनर आता है मुझे, सांप के ख़ौफ़ से जंगल नही छोड़ा करते।” वहीं उनके बेटे ने भी ट्वीटर पर लिखा कि ‘हम समंदर हैं हमें ख़ामोश रहने दो, ज़रा मचल गए तो शहर ले डूबेंगे” इस पर कयास लगाए जा रहे हैं कुलदीप बिश्नोई ने कांग्रेस पार्टी के पक्ष में वोट नहीं दिया। उन्होंंने पहले भी कहा कि था मैं अपनी अंतर आत्मा की आवाज सुनकर ही वोट दूंगा, अंतर आत्मा की आवाज पार्टी से भी बड़ी है। कुलदीप बिश्नोई प्रदेश अध्यक्ष का पद ना मिलने के बाद से ही कांग्रेस से नाराज चल रहे हैं।

गौरतलब है कि हरियाणा से कांग्रेस ने अजय माकन को उतारा था। कांग्रेस को पहले से ही क्रॉस वोटिंग का डर सता रहा था, इस वजह से उसने अपने विधायकों को जयपुर के एक रिजॉर्ट में ठहरवाया, लेकिन इसमें एक विधायक नहीं गए, वो थे कुलदीप बिश्नोई। दरअसल बिश्नोई ने हरियाणा पीसीसी चीफ पद के लिए दावेदारी ठोकीं थी, लेकिन पार्टी ने उनकी जगह उदयभान को जिम्मेदारी दे दी।

जिससे बिश्नोई नाराज हो गए। बिश्नोई ने हार नहीं मानी, उन्होंने राहुल गांधी से मुलाकात का वक्त मांगा, लेकिन ये मुलाकात नहीं हो पाई। जिससे उन्होंने बागी तेवर अपना लिए। जब पार्टी अपने विधायकों को इकट्ठा कर रही थी, तो उन्होंने उनके साथ रिजॉर्ट जाने से इनकार कर दिया। उस दौरान उन्होंने कहा था कि वो अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनकर वोट डालेंगे। कांग्रेस के मुताबिक बिश्नोई ने अगर साथ दिया होता तो कार्तिकेय चुनाव ना जीतते। इसी वजह से उनको पार्टी के निकाल दिया गया है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि विधायक कुलदीप बिश्नोई ने खुला वोट दिया। उन्होंने अपनी अंतर आत्मा की आवाज सुनकर वोट दिया है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की नीतियों से प्रभावित होकर ही ऐसा किया होगा। कुलदीप बिश्नोई ने राष्ट्रीय विचार से जुड़ने का एक अवसर अपनी अंतरआत्मा के साथ मजबूत किया है। वो भाजपा में आना चाहते हैं तो उनका स्वागत है।

Html code here! Replace this with any non empty raw html code and that's it.
RELATED ARTICLES
IBN News 24

Most Popular