10 करोड़ से ज्यादा वोडाफोन-आइडिया फोन ग्राहकों के लिए बड़ी खबर…

वोडाफोन आइडिया यानी Vi का पूरा ध्यान अब 4 जी सर्विस की तरफ है, ऐसे में कंपनी इस साल अपनी 3 जी सर्विस को बंद करने की तैयारी कर रही है. वोडा-आइडिया ने बीते सोमवार को इस बात का जिक्र किया है.

वहीं Vi की 2 जी सर्विस को बंद नहीं किया जाएगा, इसकी वजह है कि देश में वोडा-आइडिया के बेसिक यूजर काफी ज्यादा की तादाद में हैं.

Vi के CFO (चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर) अक्षय मंदूरा का कहना है कि 4 जी के चलन के बाद देश में 3 जी की कोई जरूरत समझ नहीं आती है. अब तक हमने इस सर्विस को इसलिए जारी रखा था क्योंकि कई यूजर्स के फोन सिर्फ 3 जी सर्विस ही सपोर्ट कर रहे थे, हमारे पास अब भी 3 जी के 1.1 करोड़ कस्टमर हैं. उन्होंने कहा कि देश से वोडाफोन आइडिया की 3 जी सर्विस को 2022 तक पूरी तरह से बंद कर दिया जाने की उम्मीद है.

कंपनी के शेयर्स में आई गिरावट

वीआईएल बोर्ड ने ऋण-पत्र और शेयरपूंजी के माध्यम से 25,000 करोड़ रुपये जुटाने का प्रस्ताव भी मंजूर किया है. कंपनी के मैनेजमेंट के मुताबिक इस फंड को जुटाने का काम भी जल्द ही पूरा हो जाएगा. इस योजना के लिए कई इंवेस्टर्स सामने आए हैं. हालांकि सोमवार को BSE पर कंपनी के शेयर में 3.7% की गिरावट आई और ये 12.08 रुपए पर बंद हुए.

Vi के 14.9 करोड़ 2G कस्टमर

देशभर में वोडाफोन आइडिया के 26.8 करोड़ ग्राहक हैं जिनमें से 14.9 करोड़ ग्राहक 2 जी सर्विस का इस्तेमाल करते हैं. ऐसे में कंपनी का इरादा 2 जी सर्विस को जारी रखने का है.

इसके विपरीत रिलायंस जियो अपने ग्राहकों को केवल 4 जी सर्विस ही उपलब्ध करा रही है. वहीं एयरटेल अभी 2 जी, 3 जी और 4 जी तीनों सर्विस दे रही है, इसके कुल 30.8 करोड़ ग्राहक हैं.

कंपनी का एकीकृत घाटा 4,532.1 करोड़ रुपये

कर्ज में डूबी वोडाफोन आइडिया ने बताया कि 31 दिसंबर, 2020 को समाप्त तीसरी तिमाही में उसका एकीकृत घाटा 4,532.1 करोड़ रुपये रहा. इंडस टावर्स के शेयर बेचने से एक बार की आय से उसका घाटा सीमित हुआ है. कंपनी ने एक साल पहले समान तिमाही में 6,438.8 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया था.

वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (वीआईएल) ने इंडस टावर्स का भारती इंफ्राटेल के साथ विलय होने पर उसमें अपनी 11.15 प्रतिशत हिस्सेदारी 3,760 करोड़ रुपये में बेची है.

कंपनी ने एक साल पहले की समान तिमाही की 11,089.4 करोड़ रुपये परिचालन आय की तुलना में इस बार 10,894 करोड़ रुपये की आय दर्ज की. इसमें 1.7 प्रतिशत गिरावट दर्शाता है.

Advertisement