खुशखबरी! बैंक ग्राहकों को मिलेगी खास सुविधा…

नई दिल्ली.कोरोना महामारी के बाद कुछ बैंकों ने एटीएम से संपर्क रहित नकदी निकासी (Contactless Cash withdrawals) की पेशकश की थी. लेकिन यह सुविधा पूरी तरह से संपर्क रहित नहीं थी.

हालांकि मास्टरकार्ड ने अब पूरी तरह संपर्क रहित नकदी निकासी की पेशकश करने के लिए AGS Transact Technologies के साथ साझेदारी की है. एटीएम कार्डधारक अब बिना एटीएम की स्क्रीन और बटन को छुए भी पैसा निकाल सकेंगे. इसके लिए सिर्फ उन्हें स्क्रीन पर एक क्यूआर कोड स्कैन करना होगा.

दरअसल, एजीएस ट्रांजैक्ट टेक्नोलॉजी (AGS Transact Technologies, AGSTTL) नाम की एक कंपनी ने एक नया सॉफ्टवेयर बनाया है जिसकी मदद से कोई भी व्यक्ति बिना एटीएम मशीन को छुए पैसे निकाल सकते हैं.

AGSTTL के ग्रुप चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर, महेश पटेल ने कहा कि हमने पूरी तरह से संपर्क रहित समाधान शुरू किया है. मास्टरकार्ड नेटवर्क का उपयोग करने वाले बैंक अपने ग्राहकों के लिए इसे लागू करने के लिए AGS Transact Technologies से संपर्क कर सकते हैं.

बिना ATM टच किए इस तरह निकालें पैसे

  • इसके लिए सबसे पहले स्मार्टफोन पर बैंक के मोबाइल एप्लीकेशन को खोलें और क्यूआर कैश विड्रॉवल (QR Cash Withdrawal) के ऑप्शन पर क्लिक करें.
  • उसके बाद जितना पैसा निकालना होगा वह अमाउंट फोन पर डालें.
  • इसके बाद एटीएम स्क्रीन पर दिख रहे QR code को स्कैन करें.
  • अब Proceed के बटन पर क्लिक करके कंफर्म करें.
  • अब अपना 4 अंकों वाला पिन नंबर एंटर करें.
  • इसके आपको कैश ATM से मिल जाएगा.

पटेल ने कहा कि संपर्क रहित निकासी न केवल महामारी के समय में मदद करती है, बल्कि एटीएम में धोखाधड़ी को कम करने में भी मदद करेगी. जब हमने पहली बार करीब दो-ढाई साल पहले तकनीक पर काम करना शुरू किया था, तब मोबाइल ऐप के जरिए कैश निकालने की प्राथमिक वजह एटीएम फ्रॉड को कम करना था.

BoI में शुरू हुआ कॉन्टैक्ट लैस विद्ड्रॉल- AGS Transact Technologies ने सबसे पहले बैंक ऑफ इंडिया (BoI) के साथ इस सुविधा की पेशकश शुरू की थी, जो पूरी तरह से संपर्क रहित नहीं था. लेकिन अब, BoI के लिए पूरी तरह कॉन्टैक्ट लैस विद्ड्रॉल शुरू कर दिया है.

पटेल ने कहा, ‘अब हम इसे बैंक स्तर पर पेश कर रहे हैं, जो केवल विशिष्ट बैंक एटीएम के साथ काम करता है. इसके अलावा, यह मास्टरकार्ड पर भी उपलब्ध है जिसे किसी भी एटीएम में इस्तेमाल किया जा सकता है.’

Advertisement