भारत के लिए आई बुरी खबर, हर किसी पर पड़ेगा इसका असर

नई दिल्‍ली। देश का विदेशी मुद्रा भंडार (foreign exchange reserves) 12 फरवरी को समाप्‍त सप्‍ताह के दौरान 24.9 करोड़ डॉलर घटकर 583.697 अरब डॉलर रह गया। शुक्रवार को आरबीआई द्वारा जारी ताजा आंकड़ों से यह जानकारी मिली है।

इससे पहले के सप्‍ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 6.24 अरब डॉलर की बड़ी गिरावट के बाद 583.945 अरब डॉलर पर आ गया था। 29 जनवरी, 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार ने 590.185 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्‍च स्‍तर को छुआ था।

समीक्षाधीन सप्‍ताह में, मुद्रा भंडार में आई गिरावट का प्रमुख कारण विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए) में आई कमी है। ओवरऑल भंडार में विदेशी मुद्रा संपत्ति की एक प्रमुख हिस्‍सेदारी है। आरबीआई ने बताया कि समीक्षाधीन सप्‍ताह के दौरान विदेशी मुद्रा संपत्ति 1.387 अरब डॉलर घटकर 540.951 अरब डॉलर रह गई।

डॉलर में व्‍यक्ति किए जाने वाले विदेशी मुद्रा भंडार में रखे गैर-अमेरिकी मुद्राओं जैसे यूरो, पौंड और येन में आने वाले उतार-चढ़ाव का प्रभाव भी विदेशी मुद्रा संपत्ति पर पड़ता है। लगातार दो सप्‍ताह तक गिरावट के बाद देश का स्‍वर्ण भंडार 12 फरवरी को समाप्‍त सप्‍ताह के दौरान 1.26 अरब डॉलर बढ़कर 36.227 अरब डॉलर का हो गया।

अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ देश का विशेष आहरण अधिकार भी 1 करोड़ डॉलर बढ़कर 1.513 अरब डॉलर हो गया। हालांकि आईएमएफ के साथ देश की भंडारण स्थिति 13.2 करोड़ डॉलर घटकर 5.006 अरब डॉलर रह गई।

Advertisement