हरियाणा के B.Tech स्टूडेंट्स के लिए बुरी खबर, पढ़िए क्या है मामला

सोनीपत : तकनीकी शिक्षा विभाग के उल-जलूल फरमान हरियाणा के विद्यार्थियों के लिए आफत से कम नहीं हैं। स्नातक में दाखिला लेने के इच्छुक हरियाणा के विद्यार्थियों को ऑल इंडिया कैटेगरी के 15 प्रतिशत कोटे से बाहर कर दिया गया है। 85 प्रतिशत कोटे के तहत दाखिला लेने से वंचित रहे हरियाणा के विद्यार्थी इस कोटे की खाली सीटों पर दाखिला ले सकते थे लेकिन अब यह संभावना पूरी तरह खत्म कर दी गई है। इससे हरियाणा के हजारों विद्यार्थियों को नुक्सान होने की संभावना है।

हैरानी की बात यह है कि 2 साल पहले स्नातकोत्तर कोर्सों व पीएच.डी. कोर्सों में ऑल इंडिया कैटेगरी से हरियाणा को बाहर कर दिया गया था लेकिन विरोध के बाद इस फैसले को वापस ले लिया गया था। अब ऐसा ही निर्णय स्नातक विद्यार्थियों के लिए लागू किए जाने से विद्यार्थी अचंभित हैं।

नया नियम लागू कर दिया गया है जिससे विद्यार्थियों में काफी रोष है। वहीं कुछ विद्यार्थियों ने इसे हरियाणा के विद्यार्थियों के खिलाफ षड्यंत्र तक बता दिया है। अब 15 प्रतिशत कोटे में केवल अन्य राज्यों के छात्र ही आवेदन कर सकेंगे। हरियाणा के लिए 85 प्रतिशत सीटों का ही प्रावधान रहेगा। बी.टैक., बी.ई., बी.आर्किटैक्ट जैसे कोर्सों में दाखिला लेने वाले विद्यार्थियों को इसका खमियाजा भुगतना पड़ा है।


रैंकिंग में आगे होने के बावजूद दाखिले में पिछड़ रहे हरियाणा के विद्यार्थी

इससे पहले आर.ओ.एच. के स्थान पर ए.आई.सी. यानी ऑल इंडिया कैटेगरी के एडमिशन किए जाते थे जिसमें कि हरियाणा निवासी छात्र भी इस कैटेगरी के तहत एडमिशन ले पाते थे। यह कोटा प्रतिशत होता था जबकि 85 प्रतिशत का हरियाणा के विद्यार्थियों को एडमिशन का प्रावधान है। उदाहरण के तौर पर इस बार मुरथल यूनिवर्सिटी के कम्प्यूटर इंजीनियरिंग के एडमिशन में हरियाणा का आखिरी रैंक 43452 है जबकि वरीयता के अनुसार दूसरे राज्य का छात्र आर.ओ.एच. के तहत 63607 रैंक होते हुए भी कम्प्यूटर्स ब्रांच में दाखिला ले सका।

इसी के अनुसार इलैक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की बात करें तो हरियाणा के छात्र को केवल 62381 स्थान तक एडमिशन मिला है जबकि दूसरे राज्य के छात्र को जो कि वरीयता में काफी पीछे था, उसे भी में दाखिला मिला है। इसी प्रकार इलैक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की हरियाणा के छात्र को केवल बी.एससी. 82256 रैंक पर आखिरी दाखिला मिला है जबकि दूसरे राज्य से आए छात्र को 10153 रैंक के बावजूद इलैक्ट्रिकल में एडमिशन मिल गई।

पूर्व विधायक जयतीर्थ दहिया बोले, हरियाणा के विद्यार्थियों के साथ धोखा

राई के पूर्व विधायक जयतीर्थ दहिया ने इस मामले को लेकर सी.एम. मनोहर लाल को पत्र लिखा है और कहा है कि यह नया प्रावधान हरियाणा के विद्यार्थियों के साथ धोखा है। एक तरफ तो हरियाणा के युवाओं के लिए 75 प्रतिशत रोजगार के दावे किए जा रहे हैं दूसरी तरफ हरियाणा के छात्रों को पीछे धकेलने का षड्यंत्र रचा जा रहा है। उन्होंने कहा कि खास तौर पर छोटू राम यूनिवर्सिटी मुरथल में दाखिला लेने के इच्छुक विद्यार्थियों के लिए यह सबसे बड़ा धोखा है। इस मामले में तुरंत संज्ञान नहीं लिया गया तो वह वि.वि. के विद्यार्थियों को साथ लेकर आंदोलन करेंगे।

Advertisement