हरियाणा सरकार की अप्रैंटिस महत्वाकांक्षी स्कीम, जल्द होगी शुरू !

इंडिया ब्रेकिंग /करनाल रिपोर्टर (सिमरजीत कौर ) अप्रैंटिस को लेकर लघु सचिवालय के सभागार में अतिरिक्त उपायुक्त अनिश यादव की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में समीक्षा की गई।  हरियाणा सरकार की अप्रैंटिस स्कीम के तहत हमारा जिला जल्द ही दो पायदान ऊपर उठकर प्रदेश में पहले स्थान पर आ जाएगा, इसके लिए लघु सचिवालय के सभागार में अतिरिक्त उपायुक्त अनिश यादव की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में समीक्षा की गई। इसके साथ ही अनिश यादव ने कहा जो भी विभाग इसकी अनदेखी करेगा, वह स्वयं इसका जिम्मेवार होगा !

अतिरिक्त उपायुक्त ने बैठक में आए इन विभागो के प्रतिनिधियों को स्पष्ट  कर दिया कि अप्रैंटिस लगवाना सरकार की महत्वाकांक्षी स्कीम है, जो विभाग इसकी अनदेखी करेगा, वह स्वयं इसका जिम्मेवार होगा। उनका कहना था कि इस स्कीम का पालन नियमानुसार अति जरूरी है। जिन विभागो ने अप्रैंटिस का कोटा पूरा नही किया हैं  वह जल्दी से अपने कोटे की सीट भरना सुनिश्चित करें। उन्होने प्रतिनिधियों से कहा कि वे शीघ्र ही,  कुल स्टाफ संख्या के 10 प्रतिशत के हिसाब से अप्रैंटिस को लगाएं। इससे आई.टी.आई. पास बेरोजगारो को रोजगार मुहैया होगा और वे अप्रैंटिस रहते हुए एक साल का प्रशिक्षण मुकम्मल कर भावी नौकरी के लिए पात्रता प्राप्त करने में सक्षम होंगे।

बैठक में स्थानीय बाबू मूल चंद जैन औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य एवं स्कीम के नोडल अधिकारी बलदेव सिंह ने बताया कि 2017 से करनाल जिला में लागू अप्रैंटिस स्कीम में अब कुछ ही विभाग बचे हैं, जो सरकार के पोर्टल पर तो रजिस्टर्ड हैं, परंतु उन्होने अपनी डिमांड भेजकर कार्यालयो में अप्रैंटिस को काम पर नही रखा है। उन्होंने अप्रैंटिस स्कीम को लेकर पूरी डिटेल बताई। उन्होने बताया कि अब तक जिला के भिन्न-भिन्न विभागो के 185 दफतर रजिस्टर्ड हो चुके हैं। इनमें अप्रैंटिस की 1025 सीट भरी जा चुकी हैं। उन्होने बताया कि एक साल के बाद अप्रैंटिस को एक परीक्षा देनी होती है, जिसे पास करने के बाद उसकी योग्यता में अप्रैंटिस का अनुभव जुड़ जाता है !

Advertisement