एयर इंडिया बैठे-बिठाए कराएगा देश का सफर, जानें कैसे

कोरोना वायरस के कारण घर तक सीमित रह गए घुमक्कड़ लोगों के लिए एयर इंडिया खास तरह का सफर लाया है। आप कहीं जाए बिना पूरा देश घूमकर आ सकते हैं और इस सफर में संक्रमण का खतरा भी बहुत कम होगा। एयर इंडिया से जुड़े सूत्रों ने बताया है कि यह एयरलाइंस जल्द ही ‘ज्वॉय राइड’ की सुविधा देने जा रही है। आइए जानते हैं इसके बारे में …

बोइंग से उड़ान – यह सफर बोइंग 747 जैसे चौड़ी बॉडी वाले विमान के जरिए कराए जाने की योजना है। हालांकि अभी अंतिम फैसला होना बाकी है।

देश के प्रमुख स्थानों की आभासी सैर – एयरलाइंस के प्रवक्ता की ओर से हिन्दुस्तान टाइम्स को बताया गया कि ज्वॉय राइड करने वाले यात्रियों को देश के प्रमुख स्थान व स्मारकों की आभासी सैर करायी जाएगी। वे कोविड प्रोटोकॉल अपनाते हुए विमान में बैठेंगे और विमान उन्हें आसमान में एक सीमित दूरी तक ले जाकर दोबारा उसी हवाई अड्डे पर उतार देगा। इस दौरान यात्री प्रसिद्ध स्थानों को वर्चुअल तरीके से देखेंगे। हालांकि अभी ये उड़ान शुरू होने की आधिकारिक घोषणा होना बाकी है, जिसके बाद टिकट की कीमत व उस हवाई अड्डे का पता लगेगा, जहां से ऐसी उड़ानें संचालित की जाएंगी।

कम ऊंचाई की उड़ान -उड्डयन विशेषज्ञ मार्क मार्टिन ने बताया कि ऐसी उड़ानें कम ऊंचाई पर होती हैं जिसमें यात्रियों से भरा विमान चक्कर लगाकर वापस उसी हवाई पट्टी पर आ जाता है। ये विमान 500 से 1000 फीट ऊंचाई पर औसतन 400 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ सकती हैं। यह आकाशीय मार्ग न्यूनतम बाधा सीमा से ऊपर होता है पर अलग-अलग शहरों के लिए इस बाधा सीमा की ऊंचाई अलग-अलग तय है।

संक्रमण का कम खतरा

अब तक हुए अध्ययनों में यह सामने आया है कि हवाई जहाज के केबिन के अंदर की हवा को बार-बार बदले जाने के कारण यहां संक्रमण फैलने का खतरा कम होता है। यात्री अगर शारीरिक दूरी से बैठे हों और मास्क लगाएं तो यह खतरा न्यूनतम रह जाता है। हालांकि मनोरंजन वाली इन यात्राओं को डॉ. आरके सिंघल अनावश्यक मानते हैं। उनका कहना है कि जब देश में हर दिन 90 हजार से ज्यादा मामले आ रहे हैं तो ऐसे में अनिवार्य यात्राओं को ही प्राथमिकता मिलनी चाहिए। वे दिल्ली स्थित बीएलके सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के मेडिसिन विभग के निदेशक हैं।

यात्री व एयरलाइंस दोनों को लाभ

यात्रियों को आनंद दिलाने के लिए प्रस्तावित हवाई उड़ाने के बारे में महामारी विशेषज्ञ डॉ. टी जैकब जॉन का कहना है कि यह योजना जहां यात्रियों की नीरसता को तोड़ने में मददगार साबित होगी, वहीं आर्थिक तनाव झेल रही एयरलाइंस के लिए राजस्व का साधन बनेगा। बस जरूरी है कि एयरलाइंस बचाव के सभी आवश्यक तरीकों को अपनाए। डॉ. जैकब क्रिस्चन मेडिकल कॉलेज में कार्यरत हैं।

ऑस्ट्रेलिया में ऐसे सफर के टिकट मिनटों में बिके

हाल में ऑस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी हवाई सेवा कांतास ने ज्वॉय राइड शुरू की, जिसके सभी टिकट 10 मिनट के अंदर बिक गए थे। यह आठ घंटे की यात्रा थी, जिसमें यात्री को सफर शुरू होने से पहले होने वाले चेकइन से लेकर विमान के टेकऑफ होने तक का अनुभव मिला पर वे कहीं पहुंचे नहीं। यह विमान द ग्रेट बैरियर रीफ और सिडनी हार्बर जैसे आकर्षक स्थलों के ऊपर से उड़कर यात्रियों को दोबारा उसी हवाईअड्डे पर ले आया, जहां से उन्होंने यात्रा शुरू की थी।  इस यात्रा के टिकट 42 हजार से लेकर दो लाख के बीच थे।

ब्रूनेई में पकवान खाने लोग हवाई जहाज में बैठे

ब्रूनेई के रॉयल एयरलाइंस के 85 मिनट के सफर के टिकट भी रिकॉर्ड समय में बिक गए। इस यात्रा का आकर्षण ब्रूनेई के प्रसिद्ध पकवान थे, यात्रियों ने इनका लुफ्त देश् के आसमान में उड़ते हुए उठाया। इसी तरह जापान, ताइवान की एयरलाइंस ने भी ज्वॉय फ्लाइट शुरू कर दी हैं।

Advertisement