भरी नींव पर खड़ा होगा हरियाणा में जनता के लिए बड़ा महल, जानें नए साल की क्याा देगा सौगातें

चंडीगढ़ । New Year Hope: हरियाणा के लिए साल 2021 कई सौगातें और उम्‍मीदें लेकर आ रहा है। उम्‍मीद है, हरियाणा में विकास की नींव पर जनता के लिए प्रगति का बड़ा महल तैयार होगा। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीनेशन की तैयारियों में जुटी हरियाणा की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार ने अगले साल का एजेंडा सेट कर लिया है।

चार दिन बाद अतीत बन जाने वाले मौजूदा साल में प्रदेश सरकार ने 40 नए प्रोजेक्ट शुरू किए हैं, जिनसे भ्रष्टाचार कम होने, लोगों को त्वरित आनलाइन सेवाएं उपलब्ध होने तथा समय व धन की बचत के दावे किए गए हैं। अगला साल सुशासन परिणाम वर्ष का है। इस साल में सरकार नई योजनाओं के नतीजे हासिल कर लोगों को लाभान्वित करने की योजना पर आगे बढ़ेगी।

वैक्सीनेशन की तैयारियों में जुटी भाजपा सरकार ने तय किए अगले साल के लक्ष्य

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस पर करीब तीन दर्जन नई परियोजनाओं की शुरुआत की है। इसके लिए अच्छा काम करने वाले अधिकारियों और उनकी टीम को पुरस्कृत भी किया गया। प्रदेश सरकार ने वर्ष 2020 को सुशासन संकल्प वर्ष के रूप में मनाया। मौजूदा परियोजनाएं इसी संकल्प का नतीजा है।

कोरोना संक्रमण की दिक्कतों से जूझती सरकार ने शुरू की 40 नई डिजिटल परियोजनाएं

अब सरकार वर्ष 2021 को सुशासन परिणाम वर्ष के रूप में मनाने जा रही है। इसके तहत सरकार की योजना फील्ड में इन प्रोजेक्ट के नतीजे हासिल करने, कर्मचारियों को प्रेरित व प्रशिक्षित करने तथा परियोजनाएं के लाभ जानने की है। मंशा एक ही है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा सरकारी योजनाओं का घर बैठे लाभ मिले

मौजूदा साल सुशासन संकल्प का रहा, अगले साल में इसके परिणाम हासिल करने पर फोकस

हरियाणा सरकार के विकास की ट्रेन इस साल पूरी तरह से कोरोना संक्रमण की पटरी से होकर गुजरी है। इसका नुकसान राजस्व की कमी के रूप में हुआ। अब धीरे-धीरे कोरोना का इलाज सामने आ रहा है। राजस्व भी बढ़ने लगा है। लिहाजा गठबंधन की सरकार ने नए साल के लिए पांच एस (यानी शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वाभिमान और स्वालंबन) का एजेंडा सेट किया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल चाहते हैं कि इस साल हरियाणा का हर व्यक्ति इन पांच एस की सुविधा से वंचित न रहे।

शिक्षा का बजट बढ़ाने की योजना

प्रदेश में इस समय छोटे-बड़े 50 विश्वविद्यालय हैं। राई में एक खेल विश्वविद्यालय है। एक चिकित्सा अनुसंधान केंद्र रोहतक में है और दूसरा करनाल के कुटैल में खुलने वाला है। पंचकूला में आयुर्वेद विश्वविद्यालय बनना है। दूधला में कौशल विश्वविद्यालय बन चुका है। सरकार ने जहां इस साल शिक्षा के क्षेत्र में 15 फीसदी की बढ़ोतरी की थी, वहीं इस बार इसे 20 फीसदी तक ले जाने की है।

हर कोई रहे स्वस्थ, सबको मिले काम

प्रदेश सरकार का दूसरा मुख्य फोकस हर व्यक्ति को स्वस्थ जीवन देने की है। हरियाणा के करीब 80 लाख लोगों को आयुष्मान हरियाणा योजना में कवर किया जाना है। करीब 23 लाख लोगों के कार्ड बन चुके हैं। सरकारी व प्राइवेट चिकित्सा सेवाओं में विस्तार तथा कोरोना से बचाव का टीकाकरण सरकार के प्रमुख एजेंडे में शामिल है। स्वावलंबन के तहत गठबंधन की सरकार हरियाणा में आत्मनिर्भर भारत के तहत छोटी-बड़ी स्वदेशी उत्पादों की इंडस्ट्री को प्रोत्साहित करेगी। इसके लिए नई उद्योग नीति में भी प्रावधान किए गए हैं।

सुरक्षा के लिए ढाई सौ नई गाडि़यां

सुरक्षा के एजेंडे के तहत सरकार का फोकस महिलाओं व लड़कियों के साथ-साथ व्यापारियों व आम आदमी की सुरक्षा से है। प्रदेश सरकार ने हरियाणा पुलिस को करीब 250 नई गाडि़यां उपलब्ध कराई हैं, जो जल्द ही सड़कों पर लोगों की सुरक्षा के लिए सायरन बजाती नजर आएंगी। स्वाभिमान की ¨चता करते हुए सरकार ने विश्वविद्यालयों में स्थापित होने वाली चेयर्स के मुखियाओं से कहा है कि वह इस दिशा में सहयोग व काम करें।

जमीन पर दिखेगा योजनाओं का असर’

” हमारी सरकार का फोकस पांच एस यानी शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वाभिमान और स्वावलंबन के क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा काम करने का है। मौजूदा साल में हमने सुशासन तथा जनता को अधिक से अधिक सुविधाएं प्रदान करने के लिए चार दर्जन से ज्यादा नए कार्य शुरू किए। अब फील्ड में इनका असर दिखाई देगा। इसलिए हम वर्ष 2021 को सुशासन परिणाम वर्ष के रूप में मनाएंगे। इन योजनाओं के नतीजे लेंगे। कहीं कोई कमी आएगी तो उसे दूर करेंगे। हमारा ध्येय हर बच्चे को शिक्षित, हर व्यक्ति को स्वस्थ, सुरक्षित, स्वावलंबी और स्वाभिमानी बनाने का है। इन्हीं पांच एस को पूरा करने के लिए सरकार काम करेगी।

Advertisement