ऐसे 7 लोग, जिन्होंने अपने काम से रिटायरमेंट नहीं ली, कोई 96 का है, तो कोई 108 साल का!

Advertisement

------------- Advertisement -----------

रोटी कपड़ा और मकान. इंसान की ये तीन मूल जरूरतें हैं. इनके ज़िंदगी काटना संभव नहीं. अब समस्या ये है कि ये चीज़ें दुनिया के किसी भी कोने में मुफ्त में नहीं मिलतीं. इन ज़रूरतों को पूरा करने के लिए आपको चाहिए होते हैं पैसे, जिसके लिए करना पड़ता है कमरतोड़ काम. इसी काम के चक्कर में पूरी दुनिया परेशान है.

किसका मन करता है सुबह-सुबह नींद खराब करके काम पर जाने का. हर रोज़ एक ही जगह जाकर एक जैसा ही काम करके अक्सर लोग थक जाते हैं और छुट्टी पर जाना पसंद करते हैं. ऐसे में अगर हम आपको बताएं कि दुनिया में कुछ लोग ऐसे हैं, जिन्हें छुट्टियों से ज़्यादा अपने काम से प्यार है तो आपकी प्रतिक्रिया क्या होगी?

Advertisement

इसके बाद यदि हम आपको बताएं कि ये लोग अपने काम से इतना प्यार करते हैं कि इन्होंने रिटायरमेंट तक नहीं ली और बड़ी उम्र तक काम करते रहे तो क्या आप मानेंगे? शायद नहीं. शायद नहीं. इसीलिए हम बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे लोगों के बारे में जिनमें से किसी ने 93 तो किसी 108 साल की उम्र तक काम किया:

1. डेविड गुडाल, उम्र 103

डेविड गुडाल एक आस्ट्रेलियन वैज्ञानिक थे. गुडाल बॉटनी और इकोलॉजी के वैज्ञानिक थे. ‘साईंस में खोज की कोई सीमा नहीं’ इस कथन को डेविड ने सच साबित किया. वो अपने क्षेत्र में लंबे समय तक काम करते रहे. इनका कार्यकाल इतना लंबा था, जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल है. आपको जानकर हैरानी होगी की गुडाल ने अपनी 103 वर्ष की आयु तक अपने क्षेत्र में काम किया.

गुडाल ने आज से 79 साल पहले डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की थी. उनके इस लंबे कार्य काल के लिए उन्हें 2016 में ऑर्डर ऑफ़ आस्ट्रेलिया से नवाज़ा गया. अपनी इस उपलब्धि के अलावा भी कुछ ऐसा किया गुडाल ने जिसकी वजह से उनका नाम दुनिया भर की सुर्खियों में छाया रहा. दरअसल डॉ. गुडाल अब हमारे बीच नहीं हैं. 10 मई 2018 को गुडाल ने अपनी अंतिम सांस ली.

उनके सुर्खियों में आने का कारण उनकी मृत्यु ही थी. दरअसल, वह किसी बीमारी की वजह से नहीं मरे, बल्कि उन्होंने इच्छामृत्यु से खुद के जीवन पर विराम लगाया. आस्ट्रेलिया में बिना किसी गंभीर बीमारी के इच्छामृत्यु की स्वीकृति देने का प्रावधान नहीं है, इसीलिए गुडाल ने स्विट्जरलैंड में ये प्रक्रिया पूरी की थी. 104 साल की उम्र में गुडाल ने खुशी-खुशी अपनी जान दे दी थी.

2. लॉरेन म्युरर, उम्र 94

1973 में लॉरेन म्युरर के पति नौकरी से रिटायर हो गए. तब लॉरेन की उम्र 50 साल थी. लॉरेन ने अपने पति से कहा कि अभी उनकी उम्र घर पर बैठने की नहीं हुई है और इसीलिए वह नौकरी करेंगी. यूएसए के इंडियाना की रहने वाली लॉरेन ने इसी साल यहां के एक मैक्डोनल्डस में काम करना शुरू किया.

1980 में उनके पति चल बसे. अब उनके 4 बच्चों की ज़िम्मेदारी उनके ही कन्धों पर आ गयी. नौकरी चलती रही. एक तरह से लॉरेन को अपने काम से प्यार हो गया और उन्होंने अपने जीवन के 4 दशक यहीं काम करते हुए बिता दिए. लॉरेन 94 साल की आयु तक यहां काम करती रहीं.

मेक डी की मालकिन बताती हैं कि लॉरेन का यहां आने वाले ग्राहकों से इतना प्यार है कि कई लोग सिर्फ उन्हें ही देखने यहां आते हैं. लॉरेन ने हर सर्दियों में ये मन बनाया कि वह अब काम से रिटायरमेंट ले लेंगी लेकिन वो नहीं ले पाईं. इनके 6 पोते पोतियां और 7 पर पोते पोतियां हैं. वो अब हफ्ते में 2 दिन काम पर आती हैं.

3. वाल्टर बिंघम, उम्र 93

इज़राइल के वाल्टर बिंघम अपने रेडियो कार्यक्रमों की वजह से जाने जाते रहे हैं. किसी इंसान का गला कितना भी मीठा क्यों ना हो मगर एक उम्र के बाद उसकी आवाज़ में खराश और कंपन आना स्वभाविक है. इसकी वजह बढ़ती उम्र के साथ कमज़ोर होता शरीर हो सकती है. लेकिन वाल्टर उनमें से नहीं हैं जो उम्र के आगे हार मान लें. तभी तो इन्होंने 93 साल की उम्र के बाद तक रेडियो शोज़ को होस्ट किया.

वाल्टर ने इज़राइल नेशनल रेडियो तथा इज़रायल न्यूज़ टॉक पर वाल्टरस वर्ल्ड तथा दि वाल्टर बिंघम फ़ाईल नामक दो रेडियो शो होस्ट किए. इतना ही नहीं बल्कि वाल्टर का नाम गिनीज़ वर्ल्ड रिकार्ड में भी दर्ज हो चुका है. इनका नाम वर्ल्ड्स ओल्डेसट लिविंग रेडियो शो होस्ट के रूप में गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है.

4. बेट्टी रेड सोस्किन, उम्र 98

एक उम्र के बाद लोग अपने काम से थक जाते हैं. वो रिटायर होते हैं, घर परिवार से लेकर अपनी बढ़ती उम्र संबंधित बीमारियों में उलझ कर रह जाते हैं. यही कारण है कि ऐसे लोगों के पास कुछ खास नहीं रह जाता याद करने को. लेकिन अमेरिका की बेट्टी रेड सोस्किन के पास बताने के लिए इतना कुछ है कि आप सुनते सुनते थक जाएंगे. 98 साल की बेट्टी आज भी नेशनल पार्क में काम करती हैं.

बेट्टी का जन्म 1921 में हुआ. इन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जिम क्रो ऑल ब्लैक युनियन के लिए फ़ाईल क्लर्क का काम किया. इनको सबसे ज़्यादा पहचान मिली 1960 में शुरू हुए सिविल राइट्स मूवमेंट के दौरान. उस दौरान बेट्टी इस मुहीम के लिए गीत लिखा करती थीं. उसके बाद बेट्टी नेशनल पार्क सर्विस में भर्ती हो गईं. आज भी वो रिचमंड कैलिफोर्निया के वर्ल्ड वार टू होम फ़्रंट नेशनल हिस्टॉरिक पार्क का हिस्सा हैं.

बेट्टी पार्क में आने वाले लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी रहती हैं. कुछ समय पहले इन्हें स्ट्रोक के कारण 5 महीने तक अपने काम को छोड़ना पड़ा था लेकिन ठीक होने के बाद वह फिर काम पर लौट आयीं.

5. जिरो ओनो, उम्र 94

दुनिया में एक से एक खाने के शौकीन लोग हैं. लोग कई मिलों का सफर कर लेते हैं अपनी जीभ की लालसा को मिटाने के लिए. हां! खाने के मामले में एक चीज़ नहीं होती तो वो है इंतज़ार. मगर आपको ये पता चले कि जापान के एक रेस्टोरेंट में सुशी का स्वाद लेने के लिए लोगों को दो साल इंतज़ार करना पड़ता है तो आप इस पर क्या कहेंगे.

गौर करने वाली बात यह कि ये रेस्टोरेंट कोई ऐसी वैसी जगह नहीं बल्कि मिशेलिन गाईड द्वार 3 स्टार प्राप्त हाई रेटेड रेस्टोरेंट है जहां बराक ओबमा डेविड बैकहम जैसे कितने ही नामचीन लोग आ चुके हैं. इस रेस्टोरेंट की एक अन्य खासियत हैं इसके मालिक जिरो ओनो. जिरो 94 साल के हैं और अभी भी अपने रेस्टोरेंट में सुशी बनाते हैं.

ये रेस्टोरेंट इन्हीं की बनाई सुशी के कारण इतना प्रसिद्ध है. इनके हाथ की सुशी खाने के लिए आपको सालों वेटिंग लिस्ट में बने रहना पड़ सकता है. जिरो के जीवन पर आधारित एक डॉक्यूमेंटरी भी बन चुकी है जिसे जिरो ड्रीम्स ऑफ़ सुशी नाम से नेटफ़्लिक्स पर रिलीज़ किया गया था.

6.एंथोनी मैनसीनेली, उम्र 108

इस लेख को अगर इन सातों में से किसी एक को समर्पित करना हो तो हम नाम लेंगे एंथोनी मैनसीनेली का. अभी तक आपने जितने लोगों के बारे में पढ़ा उन सबसे उम्रदराज एंथोनी ही हैं. एंथोनी 2019 में 108 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह गये, लेकिन हैरान करने वाली बात है कि वो अपनी मौत से कुछ महीनों पहले तक भी अपना काम बखूबी ढंग से कर रहे थे.

एंथोनी ने 1923 में 12 साल के थे. तब उन्होंने अपना घर चलाने के लिए एक हजाम की दुकान में झाडू लगाने का काम किया. धीरे धीरे वह भी नाई का काम सीख गए. उन्हें अपने काम से इतना प्यार था कि उन्होंने पूरे 98 साल तक लोगों के बाल काटे. जब उन्होंने काम शुरू किया था, तब वह बाल काटने के 25 सेंट लेते थे और अब उनकी फिस 19 डॉलर थी. वह अब भी अपना काम छोड़ना नहीं चाहते थे.

किन्तु, जबड़े के कैंसर ने उन्हें और समय नहीं दिया. 2018 में एंथोनी का नाम दुनिया के सबसे बूढ़े नाई के तौर पर गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल किया गया था.

7. डॉक प्राइस, उम्र 88

अमेरिका के डॉक प्राइस इस लिस्ट में सबसे छोटे हैं लेकिन उनकी उपलब्धियां काफ़ी बड़ी हैं. 88 वर्षीय डॉक एक टैटू आर्टिस्ट हैं. उनकी उपलब्धियों का अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि उन्होंने अपने पूरे कार्यकाल में जितने लोगों के शरीर पर टैटू बनाए हैं वो 40 एकड़ ज़मीन के बराबर है. डॉक दुनिया के सबसे उम्रदराज टैटू आर्टिस्ट हैं. इन्होंने अपने काम की शुरुआत 1964 में की थी और आज भी सक्रिय हैं.

तो देखा आपने, अगर आपको आपके काम से प्यार हो जाता है फिर आप उससे दूर नहीं रह सकते. यहां तक की आपको आपकी बढ़ती उम्र महज एक नंबर लगने लगती है. याद रखें आप अगर अपने काम से प्यार करेंगे तब आपका ये काम ही आपकी पहचान बन जाएगा.

Advertisement