आर्मी में भर्ती के नाम पर 4 युवकों से धोखा, लगाया लाखो रुपए का चुना

रोहतक- अगर आप भी सेना में भर्ती होने के लिए किसी व्यक्ति को रूपए दे रहे हैं तो ये खबर आपके लिए है। हरियाणा  के रोहतक जिले के एक गांव के 4 युवकों से भारतीय सेना में भर्ती कराने के नाम पर करीब 12 लाख रुपए की ठगी कर ली गई। पीड़ितों के मुताबिक आरोपियों ने भर्ती कराने की एक्टिंग पूरी फिल्मी स्टाइल में की, लेकिन उन्हें दिए गए ज्वाइनिंग लेटर, सर्टिफिकेट्स और रोल नंबर सब कुछ नकली मिला।

बता दें कि ऑनलाइन फ्रॉड हो या फिर नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी आजकल आम-सी बात हो चली है। बेशक आप पढ़े-लिखें हैं, बावजूद इसके कहीं न कहीं ठगी का शिकार हो ही जाते हैं। फिर दिहाड़ी मजदूरी कर अपना पेट पालने वाले मजदूर की तो बात ही क्या करें। ऐसा ही कुछ रोहतक के कबूलपुर गांव में भी हुआ।

दरअसल, एक गिरोह करीब दो साल पहले एक्टिव हुआ और प्लानिंग की अपने ही रिश्तेदारों को ठगने की। पीड़ित अरुण के मुताबिक दो साल पहले वह अपने बुआ के घर घूमने गया था, जहां उसकी मुलाकात कपिल और मैनी से हुई। रिश्ते में दोनों पति-पत्नी हैं। अरुण को दम्पत्ति ने सेना में भर्ती कराने का लालच दिया और उसे समझाया कि उसको स्पोर्ट्स कोटा से भर्ती कराया जाएगा। फैक्ट्री में काम करने वाले अरुण को भी सरकारी नौकरी का लालच आया तो उसने भी परिवार से बात कर भर्ती होने का मन बना लिया।

पीड़ित अरुण के अनुसार दम्पत्ति ने उसका स्पोर्ट्स सर्टिफिकेट बनवाया और उसे भेज दिया। जिसके बाद उसके पास एक सेना भर्ती की लिस्ट पहुंची, जिसमें उसका भी नाम शामिल था। अरुण को यहां से यकीन होने लगा कि वाकई अब सेना में भर्ती होकर उसके सपने पूरे होंगे। लेकिन, वो सर्टिफिकेट भी नकली थे और लिस्ट भी फर्जी थी, पर इस बात का अंदाजा उसे कतई नहीं था। कुछ समय का इंतज़ार करवाकर आरोपियों ने अरुण को फर्जी सेना का ज्वाइनिंग लेटर भी सौंप दिया। अब परिवार को भी भरोसा हो गया और इस काम के लिए आरोपियों ने साढ़े 5 लाख रुपए ठग लिए।

समय बीतता गया, आरोपियों में एक नवीन नामक शख्स भी शामिल हो चुका था। अब आरोपियों की संख्या तीन हो चुकी थी। जिन्होंने अरुण के चचेरे भाइयों को भी इस जाल में फंसाया और उन्हें भी भर्ती का लालच देकर रुपए ठग लिए। कुछ समय बाद नवीन पीड़ितों को बैंगलोर लेकर गया, जहां उन्हें कहा गया कि उनकी ज्वाइनिंग होगी। लेकिन 2 दिन बीतने के बाद दम्पत्ति का फोन आने पर उन्हें कहा गया कि उनकी मौजूदगी के बिना ज्वाइनिंग नहीं हो सकती, जिसके बाद दोनों मिया-बीवी वहां पहुंचे।

दंपत्ति द्वारा उन्हें यूनिफॉर्म के नाम पर सफेद शर्ट और काली पेंट भी दी गई। अरुण सहित उसके चचेरे भाइयों के मन में उम्मीद की किरण जागने लगी। उसके बाद उन्हें बैगलोर स्थित इण्डियन आर्मी के कैंप ले जाया गया, जहां उनके अंदर प्रवेश करने पर पाबंदी थी। कैंप के बाहर से ही दर्शन के बाद वो वापस कमरे पर लौट आए। आरोपी कपिल ने उन्हें कहा कि उनकी ज्वाइनिंग यहां की बजाय दूसरे शहर में होगी, जिसके लिए उन्हें दूसरा ज्वाइनिंग लेटर दिया जाएगा। सभी युवक वापस रोहतक अपने घर लौट आए। बैंगलोर में पीड़ितों के अनुसार सब कुछ असली लगा, बस कमी थी उनके दस्तावेज असली होने की और आर्मी कैंप में प्रवेश करने की।

ठगी गिरोह के झांसे में अरुण का एक और भाई आया। जिसको इसी साल की फरवरी महीने में हुई सेना भर्ती से निकाल दिया गया था। आरोपियों ने इसी बात का फायदा उठाने की सोची। पीड़ित दीपक को भी लालच दिया गया कि उसको बिना फिजिकल और मेडिकल के सेना में भर्ती कराया जायेगा। उससे भी लगभग 4 लाख रुपए मांगे गए। पैसे मिलने के बाद आरोपियों ने उसे भी फर्जी लिस्ट और ज्वाइनिंग लेटर दिए। उसे भी भर्ती के लिए अंबाला ले जाया गया, लेकिन वह भी खाली हाथ ही लौटा।

पीड़ित दीपक ने बताया कि लम्बा समय बीतने के बात भी उन चारों भाइयों की ज्वाइनिंग नहीं हुई। उन्होंने अपने स्तर पर कागजों की पड़ताल कराई तो मालूम हुआ कि सभी दस्तावेज फर्जी सौंप कर उन्हें बेवकूफ बनाया गया है। खैर, इस मामले में आरोपियों ने चारों भाइयों से कुल राशि 12 लाख 70 हजार रुपए ठगी।

बता दें कि अरुण के पिता रणबीर दिहाड़ी मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पाल रहे हैं। वहीं, अरुण एक फैक्टरी में काम करता है, यही हाल दीपक का भी है। रणबीर के अनुसार परिवार में पैसे न होने के कारण उन्होंने एक साहूकार से ब्याज पर उठाए थे।

फिलहाल परिवार कर्जे में डूबता जा रहा है। बच्चों कि जिन्दगी संवारने के लिए ब्याज पर रुपए उठाए थे, परन्तु अब वही जिन्दगी पैसे न लौटाने के कारण नरक बनती जा रही है। परिवार ने आरोपियों से पैसे मांगने की बात कही तो उन्हें जान से मारने की धमकी दे डाली। फिलहाल पुलिस को इस मामले की शिकायत मिली है। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा। पुलिस ने जनता को सतर्क करते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति सेना में भर्ती नहीं करा सकता, ऐसे में किसी भी झांसे में न आएं और अपने साथ फ्रॉड होने से बचें।

Advertisement