27 बीवियां और 150 बच्चे, 19 साल के लड़के ने खोला पिता के ‘बड़े घर’ का सच

‘बच्चे दो ही अच्छे’ जैसे नारे इंडिया में ही अच्छे लगते हैं क्योंकि यहां आबादी विस्फोट होने वाला है। लेकिन कनाडा की उस सबसे बड़ी फैमिली के बारे में क्या कहेंगे जहां घर के मालिक की 27 बीवियां और 150 बच्चे एक साथ रहते हैं। जी हां बात हो रही है कनाडा की सबसे बड़ी पॉलीगेमी (बहुपत्नीवादी सिद्धांत को मानने वाले) फैमिली की। हालांकि भारत में पॉलिगेमी अपराध है। लेकिन अभी भी दुनिया के कई देशों में इसे मान्यता प्राप्त है। कनाडा के इस पॉलिगेमी परिवार के दो बच्चों ने हाल ही में अपने इस मोहल्ले जैसे परिवार के बारे में कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए हैं जो यकीनन आपको हैरान कर देंगे।

मर्लिन ब्लेकमोर और उसके दो भाइयों वॉरेन ब्लेकमोर और मुरे ब्लेकमोर ने टिक टॉक पर एक वीडियो के जरिए अपने पिता के 27 बीवियों और 150 बच्चों वाले बड़े परिवार के बारे में पगली बार बात की है। मर्लिन ने बताया कि 27 माओं और 149 भाई बहनों के साथ रहने में कैसा लगता था।

मर्लिन के पिता 64 साल के विंस्टन ब्लैकमोर अपने इतने बड़े परिवार के साथ ब्रिटिश कोलंबिया के बाउंटीफुल में रहते थे। विंस्टन बहुपत्नीवादी संस्था में विश्वास करते थे और उन्होंने इसी ख्याल का समर्थन करने वाली 27 औरतों से शादी की। मर्लिन ने बताया कि वो आजतक लोगों से इस बात को छिपाता था कि वो इतने बड़े परिवार का हिस्सा है, जहां मां बाप को उनके बच्चों के नाम तक याद नहीं रहते थे। खुद मर्लिन अपने भाई बहनों के नाम भूल जाता था।

आजकल अमेरिका में रह रहे मर्लिन ने आखिरकार ऑनलाइन वीडियो के जरिए अपने उस बड़े परिवार के राज खोले हैं जिसमें 150 बच्चों को पढ़ाने के लिए घर में अपना ही स्कूल खोला हुआ था। मर्लिन के मुताबिक किशोर होते ही बच्चे माओं से अलग सराय घर में एक साथ रहते थे। मर्लिन के मुताबिक 27 माओं को एक साथ मां संबोधन करना आसान नहीं था। कैसे पहचानें कि कौन किसका बच्चा है। इस  स्थिति से निपटने के लिए पिता ने एक नियम बनाया था कि अपनी सगी मां को mum और बाकी  सभी माओं को Mother बोलना था। इससे पता चल जाता था कि कौन किसका बच्चा है। इससे 27 माओं को भी आसानी होती थी अपने बच्चे को पहचानने में।

मर्लिन ने कहा कि उनके पिता की 27 बीवियों में केवल 22 के बच्चे थे। घर का हिसाब इस तरह था कि एक बड़े से गांव जैसा घर था। यहां छोटे छोटे दो मंजिला घर बने हुए थे। हर एक घर में दो मां और उनके बच्चे रहते थे। एक मां अपने छोटे बच्चो के साथ ग्राउंड फ्लोर पर और दूसरी मां अपने छोटे बच्चों के साथ पहली मंजिल पर।

मर्लिन का कहना है कि जिस दिन उसका जन्म हुआ, उसी दिन उसकी दूसरी दो माओं के भी दो बच्चे हुए। इस लिहाज से वो तीन जुडवां भाई माने गए। मर्लिन का कहना था कि 9 से 11 साल की उम्र के बच्चों को एक साथ रखा जाता था। जबकि 12 साल से 16 साल के बच्चों को एक साथ रखा जाता था। 17 से 20 साल के बच्चों को सराय होटल में एक साथ रखा जाता था, जहां सबकी पढ़ाई एक साथ होती थी।

इतने बड़े घर में व्यवस्था कौन देखता था? इस बारे में इन लड़कों का कहना है कि खाने पीने के लिए परिवार की औरतें ही अनाज उगाती थी। घर के पीछे की जमीन पर अनाज उगाया जाता था और सब्जियां भी वहीं से आती थी। इस तरह सफाई, धुलाई और खाना बनाने के काम पत्नियों और उनकी बड़ी बेटियों और बेटों में बांट दिए जाते थे। हर व्यक्ति अपना काम करने के लिए प्रतिबद्ध था और कभी पिता के परिवार में अराजकता नहीं दिखाई दी।

मर्लिन के अनुसार 2017 में उसके पिता को सेलेस्टियल मेरिज जारी रखने के जुर्म में छह महीने के लिए हाउस अरेस्ट किया गया था। इसके बाद परिवार के अधिकतर लोग अलग अलग हो गए। खुद मर्लिन अपने दोनों भाइयों के साथ अमेरिका आ गया और इन तीनों के बीच बेहद प्यार बना हुआ है। लेकिन मर्लिन का कहना है कि

दि सन के मुताबिक मर्लिन के साथ साथ उसके भाइयों मुरे और वारेन का भी यही कहना है कि वो अपने इतने बड़े परिवार के बारे में किसी को बताने से झिझकते थे। जमाना बदला है और इसी कारण जब मर्लिन और उसके भाइयों को परिवार से दूर अमेरिका आने का मौका मिला तो उन्होंने अपनी पारिवारिक जिंदगी के इस राज को खोलना सही समझा।

हालांकि मर्लिन और उसके भाई पॉलिगेमी का बिलकुल समर्थन नहीं करते। उनका मानना है कि समाज में ऐसे नियम नहीं होने चाहिए।। मर्लिन का ये वीडियो टिक टॉक पर खूब देखा गया और जब इस पर खबर बनी तब इसे काफी पढ़ा जा रहा है।

Advertisement